मेहंदी रची थारे हाथा में भजन लिरिक्स | mehandi rachi thare hatha mein bhajan lyrics

802

मेहंदी रची थारे हाथा में भजन लिरिक्स

मेहंदी रची थारे हाथा में भजन, mehandi rachi thare hatha mein aamaj mata ji bhajan lyrics hindi

 ~ मेंहदी रची थारे हाथा मे ~

मेंहदी रची थारे हाथा मे,
उड रहयो काजल आंख्या मे।
चुनडी रो रंग सुरंग ,
म्हारी आमज माँ।


अरे चांद उग्यो ओ राता मे,
फूल उग्यो रण बागा मे।
थारो ऐसो सुहाणौ रूप ,
म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।


रूप सुहाणौ जद सु दैख्यौ ,
निंदडली नहीं आंख्या ने।
भूल गई सब कामा ने ,
याद करूं थारे नामा ने।
माया रो झूठो संग ,
म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।


थे कहो तो माता मैं तो ,
नथणि बन जाऊं।
नथणि बन जाऊं,
थारा मुखड़ा पे रम जाऊं।
बोर गूथउ थारे माथा पे,
चुड़लो मँगाओ थारे हाथा में।
बण जाऊँ बाजूबंद,
म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।


थे कहो तो माता मैं तो ,
पायलड़ी बन जाऊं।
पायलड़ी बन जाऊं,
थारा चरणा में रम जाऊं।
फूल बिछउ थारा पावा में,
नित नित दर्शन आवा मैं।
नैणा में करलु बंद ,
म्हारी आमज माँ।


मेंहदी रची थारे हाथा मे,
उड रहयो काजल आंख्या मे।
चुनडी रो रंग सुरंग ,
म्हारी आमज माँ।


जरूर पढ़ें :- भोले बाबा का रूप निराला

जरूर पढ़ें :- गुरुजी बिना कोई काम ना आवे

aamaj mata ji bhajan lyrics hindi

~ mehandi rachi thare hatha mein ~

mehandi rachi thare hatha me,
ud rahyo kajal aakhya me.
chundi ro rang surang,
mhari aamaj maa.


chand ugyo o rata me,
ful ugyo ran baga me.
tharo aiso suhano rup,
mhari aamaj maa.
mehandi rachi thare hatha me.


rup suhano jad su dekhyo,
nindadli nhi aakhya me.
bhul gai sab kama ne,
yaad karu thare nama ne.
maya ro jhutho sang,
mhari aamaj maa.
mehandi rachi thare hatha me.


the kaho to mata me to ,
nathni ban jau.
nathni ban jau,
thara mukhda pe ram jau.
bor guthau thare matha pe,
chudlo mangau thare hatha me.
ban jau bajubandh,
mhari aamaj maa.
mehandi rachi thare hatha me.


the kaho to mata me to,
payaldi ban jau.
payaladi ban jau,
thara charana me ram jau.
ful bichau thara pava me,
nit nit darshan aava me.
naina me karlu band,
mhari aamaj maa.


mehandi rachi thare hatha me,
ud rahyo kajal aakhya me.
chundi ro rang surang,
mhari aamaj maa.


जरूर पढ़ें :- मारा सतगुरु दीनदयाल

जरूर पढ़ें :- इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो

माता जी भजन लिरिक्स

~ मेहंदी रची थारे हाथा में ~

मेंहदी रची थारे हाथा मे,
उड रहयो काजल आंख्या मे।
चुनडी रो रंग सुरंग ,म्हारी आमज माँ।

अरे चांद उग्यो ओ राता मे,फूल उग्यो रण बागा मे।
थारो ऐसो सुहाणौ रूप ,म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।

रूप सुहाणौ जद सु दैख्यौ ,निंदडली नहीं आंख्या ने।
भूल गई सब कामा ने ,याद करूं थारे नामा ने।
माया रो झूठो संग ,म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।

थे कहो तो माता मैं तो ,नथणि बन जाऊं।
नथणि बन जाऊं, थारा मुखड़ा पे रम जाऊं।
बोर गूथउ थारे माथा पे,चुड़लो मँगाओ थारे हाथा में।
बण जाऊँ बाजूबंद, म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।

थे कहो तो माता मैं तो ,पायलड़ी बन जाऊं।
पायलड़ी बन जाऊं, थारा चरणा में रम जाऊं।
फूल बिछउ थारा पावा में,नित नित दर्शन आवा मैं।
नैणा में करलु बंद ,म्हारी आमज माँ।

मेंहदी रची थारे हाथा मे,
उड रहयो काजल आंख्या मे।
चुनडी रो रंग सुरंग ,म्हारी आमज माँ।

prakash mali bhajan lyrics

भजन :- मेंहदी रची थारे हाथा मे
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- गुरु मिलिया आत्म राम

जरूर पढ़ें :- खेतेश्वर को जप ले प्राणी

पिछला लेखभोले बाबा का रूप निराला भजन लिरिक्स | bhole baba ka roop nirala bhajan lyrics
अगला लेखसीताराम सीताराम सीताराम कहिए जाहि विधि राखे राम भजन लिरिक्स | sitaram sitaram sitaram kahiye bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

17 − 16 =