इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो जी भजन लिरिक्स | inder raja mari arji sambhalo bhajan lyrics

177

इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो जी भजन लिरिक्स

इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो जी भजन, inder raja mari arji sambhalo baba ramdevji ke bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
श्री रामदेव रक्षा करो, हरो संकट संताप।
सुखकर्ता समरथ धणी, जपु निरंतर जाप।


~ इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो ~

इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी ,
आप आया सबरा कारज सरे रे।
गाया वाली बेल पधारो पीर रामा जी।


ज्येठ महीने पवन घणो गाजे जी,
पड़े रे तावड़ो भोम तपे रे।
सात सायरियो रा नीर सुखोना जी,
नव खंड में झनकार पड़े रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


आषाढ़ महीने अलख धारी आया जी,
करषा हुया उबा खरे मते रे।
धोरे धोरे मोट बाजरी जी,
गेले गेले ज्वार खडेे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


सावन महीना में घेरो घेरो गाजे जी,
सूखा सरवर फेर भरे रे।
दादुर मोर पपैया बोले जी,
आठो पोर आवाज करे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


भाद्रवे में घनी कर आवो जी,
मूसलाधार मेह बरसे रे।
नदी नाला बेडा बेर सौगुणा जी,
गाया ऊबी घास चरे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


आषोज महीने पीरा अम्रत मेहुडा हो जी,
अमी रे फुआरो री चाट पडे रे।
सीप रे सायरीयो मे मोतीडा नीपजे हो जी,
समुन्द्र जाये सगाल करे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


काती रे महीने पीरा लोह लावनी हो जी,
आये शतक उपर हाथ धरे रे।
अन धन हुआ पीरजी सौगुणा हो जी,
कण सु मारा कोठार भरे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


हरजी आज रामा पीर पधारिया जी,
लीले चढने बाबो हिस करे रे।
हरी शरणे भाटी हरजी यू बोले जी,
भव तपीया भगवान मिले रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।


इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।
आप आया सबरा कारज सरे रे ,
गाया वाली बेल पधारो पीर रामा जी।


जरूर पढ़ें :- गुरु मिलिया आत्म राम

जरूर पढ़ें :- खेतेश्वर को जप ले प्राणी

baba ramdevji ke bhajan lyrics in hindi

~ inder raja mari arji sambhalo ~

jyeth mahine pavan ghano gaje ji,
pade re tawado bhom tape re.
sat sayriyo ra nir sukhona ji,
nav khand me jhankar pade re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


aashad mahine alakh dhari aaya ji,
karsha huya uba khare mate re.
dhore dhore mot bajri ji,
gele gele jwar khade re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


savan mahina me ghero ghero gaje ji,
sukha sarvar fer bhare re.
dadur mor papaiya bole ji,
aatho por aavaj kare re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


bhadeve me ghani kar aavo ji,
musladhar meh barse re.
nadi nala beda ber soguna ji,
gaya ubi ghas chare re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


asoj mahine pira amrut mehuda ho ji,
ami re fuaro ri chat pade re.
sip re sayriyo me motida nipaje ho ji,
samundr jaye sagal kare re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


kati re mahine pira loh lavni ho ji,
aaye shatak upar hath dhare re.
an dhan hua pirji soguna ho ji,
kan su mara kothar bhare re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


harji aaj rama pir padhariya ji,
lile chadne babo his kare re.
hari sharane bhati harji bole ji,
bhav tapiya bhagwan mile re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


jyeth mahine pavan ghano gaje ji,
pade re tawado bhom tape re.
sat sayriyo ra nir sukhona ji,
nav khand me jhankar pade re.
indar raja mari arji sambhalo ji.


जरूर पढ़ें :- पिछम धरा रा राजवीरा

जरूर पढ़ें :- तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो

रामदेव बाबा भजन in hindi lyrics

~ इंदर राजा म्हारी अर्जी साम्भलो ~

इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी ,
आप आया सबरा कारज सरे रे।
गाया वाली बेल पधारो पीर रामा जी।

ज्येठ महीने पवन घणो गाजे जी,
पड़े रे तावड़ो भोम तपे रे।
सात सायरियो रा नीर सुखोना जी,
नव खंड में झनकार पड़े रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

आषाढ़ महीने अलख धारी आया जी,
करषा हुया उबा खरे मते रे।
धोरे धोरे मोट बाजरी जी,
गेले गेले ज्वार खडेे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

सावन महीना में घेरो घेरो गाजे जी,
सूखा सरवर फेर भरे रे।
दादुर मोर पपैया बोले जी,
आठो पोर आवाज करे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

भाद्रवे में घनी कर आवो जी,
मूसलाधार मेह बरसे रे।
नदी नाला बेडा बेर सौगुणा जी,
गाया ऊबी घास चरे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

आषोज महीने पीरा अम्रत मेहुडा हो जी,
अमी रे फुआरो री चाट पडे रे।
सीप रे सायरीयो मे मोतीडा नीपजे हो जी,
समुन्द्र जाये सगाल करे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

काती रे महीने पीरा लोह लावनी हो जी,
आये शतक उपर हाथ धरे रे।
अन धन हुआ पीरजी सौगुणा हो जी,
कण सु मारा कोठार भरे रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

हरजी आज रामा पीर पधारिया जी,
लीले चढने बाबो हिस करे रे।
हरी शरणे भाटी हरजी यू बोले जी,
भव तपीया भगवान मिले रे।
इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।

इंद्र राजा मारी अर्ज साम्भलो जी।
आप आया सबरा कारज सरे रे ,
गाया वाली बेल पधारो पीर रामा जी।

prakash mali rajasthani bhajan

भजन :- इंदर राजा म्हारी अर्ज साम्भलो जी
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- कुण तो सुणेला कुणने सुनाऊं

जरूर पढ़ें :- घूमे रे रुणिचे थारो घोड़लो

पिछला लेखगुरु मिलिया आत्म राम भजन लिरिक्स | Guru Miliya Aatam Ram bhajan lyrics
अगला लेखमारा सतगुरु दीनदयाल अमर बनाया रे भजन लिरिक्स | satguru deen dayal amar banaya bhajan lyrics

2 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

11 − 7 =