धर धारू रे पाँव धराणा रे भजन लिरिक्स | Dhar Dharu Re Paav Dharana bhajan lyrics

748

धर धारू रे पाँव धराणा रे भजन लिरिक्स

धर धारू रे पाँव धराणा रे भजन, Dhar Dharu Re Paav Dharana baba ramdev ji bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
रुनिचे रा राजवी , आवो धारू रे अरदास।
जमो जगावा थारे नाम रो, पुरो भक्ता री आस।


~ धर धारू रे पाँव धराणा ~

धर धारू रे पाँव धराणा रे ,
जाए पाप ने धर्म थपोना।
गुरु उगमजी पाट विराजिया,
दर्शन हरी रा करना।
रावलजी ने केवे राज पद्मनी रे ,
मेर किया कर मानो।
मानोतर केवे मानो,
थी समजे समजे हालो,
थी डोर धर्म री ढालों,
थी जद अमरापुर मालो गुरूजी रे।


निवन प्रणाम गुरूजी ने कीजे रे ,
हरी मिलावे तो मिलना।
आड़ा अबका घाट घडिजे ,
किन वित पार उतरना।
थारू ने केवे बाई रूपादे रे ,
आवो धर्म रा वीर हमारा रे ,
बाई रूपा रो धर्म निभाना।
घडी एक पोडो पलंग हमारा ,
जमला माय जाना।
वाचक ने केवे बाई रूपादे रे ,
केणो बाई रो करना।
भाई रो धर्म निभाना ,
थी उत्तर मालजी में देना ,
थी धर्म रा वीर हमारा ,
जमला में म्हारे जाना गुरूजी रे।


केवे तातो बैन हमारी रे ,
नेचो मन में धरना।
सत्संग में थी जायेंने आवो ,
घनी देर नही करना।
रूपा दे ने केवे भाई धर्म रो रे ,
रुमझुम रुमझुम झांझर वाजिया रे ,
चौकीदार चेतोडो ।
आलश मरोड़े उठे आंधलो ,
जटके सिर धरोना।
परदारन केवे राजपद्मि रे ,
जमले जानू माने।
दाऊ सिर सियारो थाने ,
आ पग पायल बाजनी थाने ,
आ सात मोजड़ी थाने
आ बात राखजो सानी गुरूजी रे।


सारो गहनों दियो रूपादे रे ,
मन में आंधला राजी।
रावल राखे तो घणो रेवाला ,
नही तो घर रा वाशी।
रूपादे ने केवे राज रुखलो रे ,
इतरो सुनेनी रूपा हालिया रे ,
घर धारू रे आया।
निवन प्रणाम गुरूजी ने कीजो ,
संतो ने सीस निवाया।
उगमजी केवे सुंनो संतो रे ,
सगला हिलमिल आवो।
थी पाठ अलख रो पुरावो ,
पिरारा पगला मंडावो।
जमला री ज्योत जगावो।
थी जमला री रात जगावो गुरूजी रे।


ढोलक मंजीरा वीणा वाजिया रे ,
कोने भजन सुनोना।
चेतन हो चंद्रावल जागी ,
ध्यान धरिया चेलाना।
चंद्रावल केवे रावलजी ने रे ,
रावल माल चंद्रावल रांनी रे ,
रूपा रे महल हलोना।
कर दीपक में महल संजोयो ,
माय वाचक भपकोना।
रावलजी खेसे पालक पसेडो ,
शेषनाग सेडोना।
रूपादे नही देखोना ,
रावजी रिस करोना ,
चंद्रावल मन हसोना ,
रूपा रा देवे सेलोना गुरूजी रे।


रावलमालजी घोडे चढ़िया रे ,
मन में रिष करोना।
साथे तो सालरिया ने लीणो ,
घर धारू रे जाना।
सालरिया ने पूछे रावलमालजी रे ,
केवे सालरियो सुनो मालजी ,
थितो उबा रहिजो।
मैं तो जाऊ रखियो रे द्वारे ,
थोड़ी जेज थी कीजो।
सालरियो जावे घर धारू रे ,
जाए बारने होरे।
रूपा री मोजड़ी जोवे ,
ओ सोने मोजड़ी लेवे ,
जाए रावल ने देवे ,
जमला री वाता केवे गुरूजी रे।


ज्योत दीवा री धीमी पड़ी रे ,
उगमजी अचरज कीनो।
नुगरो मानस आयो जमले ,
ज्योत बूजवा लागी।
उगमजी केवे सूना रितधारु रे ,
बाहऱे आयने देखे धारू रे ,
रूपा री मोजड़ी कोणी।
वीणा तंदुरा लीना हाथ में रे ,
अलख अराधे किणी।
उगमजी जोड़े हाथ अलख ने रे,
मैहर बाबा री होवे।
रूपा री मोजड़ी आई ,
रूपा री लाज बचाई ,
रूपादे मन हर्षाई ,
गुरु देव री कृपा पाई गुरूजी रे।।


सत री संगत सु चालिया रूपादे रे ,
जावे महला सामी।
सामी मिलिया रावलमालजी ,
रानी कटासु आया।
रावलजी पूछे राजपद्मानी ने ,
मैं तो गई थी बाग़ बगीचे रे ,
फुलड़ा लेवन सारू।
लाइ आपरे फूल गुलाबी ,
म्हारे हाथ रो गजरों।
रावलजी ने केवे राजपद्मानी रे ,
रावलजी केवे सुंनो रूपादे ,
थितो झूठ मत बोलो।
थितो साची बाता बोलो ,
थी राज हिया रा,खोलो ,
म्हारा सु मुखड़े बोलो,
दिलड़ा रो भेद खोलो गुरूजी रे।


केवे रावलजी सुंनो रूपादे रे ,
साची बात बतावो।
नेडा नही है बाग़ बगीचा ,
फूल कटासु लावो।
रावलजी केवे राजपद्मानी ने रे ,
पहली वाड़ी कहिजे मेड़ते रे ,
दूजी जेसाने माहि।
तीजी वाड़ी शिव वाड़ी है ,
चौथी अमरकोट जानू।
रावलजी ने केवे सुनो रूपादे रे ,
अब थी साचा बोलो।
थी अतरो झूठ मत बोलो ,
थी राज हिया रा खोलो ,
म्हारा सु मुखड़े बोलो ,
थी फुलड़ा रो भेद खोलो गुरूजी रे।


करे गुरु ने याद रूपादे रे ,
अब म्हारी लाज बचावो।
थालिसु ओसार हटाओ ,
थाली में बाग़ लगायो।
रूपा पे गुरूजी री मेहर भई रे ,
केवे रावलजी सुनो रूपादे रे ,
बाग़ कठासु आयो।
ऐडा कुन है गुरु तुम्हारा
थाली माय बाग़ लगायो।
रावलजी पूछे पंथ रूपा रो रे ,
रावलजी ने रूपा पन्थ वतावे ,
गुरु शरण में हालो।
थे डोर धर्म री जालो ,
भक्ति रो मार्ग जानो ,
गुरु वचना में हालो ,
थी जद अमरापुर मानो गुरूजी रे।।


जरूर पढ़ें :- थाने रामदेव परणावे

जरूर पढ़ें :- हरी ने रूणीचो बसायो 

baba ramdev ji bhajan lyrics in hindi

~ Dhar Dharu Re Paav Dharana ~

Dhar Dharu Re Paav Dharana re,
hona paap ne dharm thopana.
guru ugamajee paat viraajiya,
darshan hari ra kar.
raavalajee ne keve raaj padmanee re,
mer kiya kar maan.
maanotar keve maano,
samaj samaje haalo,
dor dharm ree dhaalon,
jad amaraapur maalo guroojee re


nivan pranaam guroojee ne keeje re,
hari mileeve to milate hain.
aara abaka ghaat ghaseeje,
patit paare parana.
thaaroo ne keve baee roopaade re,
aavo dharm ra veer hamaara re,
baee roopa ro dharm nibhaana.
ghadee ek podo palang hamaara,
jamala mast jaana
vaachak ne keve baee roopaade re,
keno baee ro karana.
bhaee ro dharm chaaran,
uttar maalajee mein dena tha,
dharm ra veer hamaara tha,
jamala mein mhaare jaana guroojee re.


keve taato bain hamaaree re,
necho man mein dharana.
satsang mein thaasene aavo,
ghanee lee nahin karana.
roopa de ne keve bhaee dharm ro re,
rumazam rumazum zaanzar vaajiya re,
chaukeedaar chetodo
aalish marode uthe angralo,
jatak sir dharona.
paradaaran keve raajapadmi re,
jamale jaanoo maane.
daoo sir siyaaro thaane,
aa pag paayal baajanee thaane,
aa seenu thodee thaane
aa baat raakhajo saanee guroojee re.


saaro gahanon diyo roopaade re,
man mein utarala.
raaval raakhe to ghano revaala,
nahin to ghar ra vaashee
roopaade ne keve raaj rukhalo re,
itaro sunenee roopa haaliya re,
ghar paarasu re aaya.
nivan pranaam guroojee ne keejo,
santo ne sees nivaale ko.
ugamajee keve sunno santo re,
sagala hilamil aavo
paath alakh ro puraavo,
prasaar pagala mandaavo.
jamala reeyaat jagaavo.
jamala ree raat jagaavo guroojee re.


dholak manjeera vaana vaajiya re,
kone kee sunaana.
chetan ho chandraaval jaagee,
dhyaan dhaareela.
chandraaval keve raavalajee ne re,
raaval maal chandraaval rannee re,
roopa roy mahal halona.
kar deepak mein mahal sanjoyo,
shubh vaachak bhapakona
raavalajee khese palak pasedo,
sheshanaag sedona.
roopaade nahin lukana,
raavajee ris dona,
chandraaval man hasona,
roopa ra deve selona guroojee re.


raavalamaalajee ghode chadhiya re,
man mein rish dona.
ke saath to saaliya ne leeno,
ghar parasu re jaana.
saalariya ne faq raavalamaalajee re,
keve saalariyo suno maalajee,
thito uba rahijo
main to jaoo rakhiyo re dvaare,
thoda jej tha keejo
saalariyo jaave ghar dhaaroo re,
baar baar hore.
roopa ree mojadee jove,
o sone mojadee leve,
hona raaval ne deve,
jamala ree chaaron keve guroojee re.


yaat deeva ree dheemee padee re,
ugamajee acharaj keeno.
nugaro maanas aayo jamale,
yaat bujavaagee.
ugamajee keve soona ritadharu re,
baahe aayane dekhe dhaaroo re,
roopa ree stokadee konee.
vaana tindara leena haath mein re,
alakh araadhe kinee.
ugamajee charan haath alakh ne re,
maihar baaba ree hove.
roopa ree stokaree aaee,
roopa ree laaj bachaee,
roopaade man harshaee,
guru dev ree krpa mileguroojee re ..


sat ree sangat su chaaliya roopaade re,
jaave mahala saamee.
saamee miliya raavalamaalajee,
raanee katasu aaee.
raavalajee faq raajapadmanee ne kaha,
main to gaya tha baag baag re,
phulada levan saaroo.
lains aap phool gulaabee,
mhaare haath ro gajaron.
raavalajee ne keve raajapadmaanee re,
raavalajee keve sunno roopaade,
thito jhooth mat bolo
thito saachee baata bolo,
raaj hiya ra, kholo,
mhaara su mukhade bolo,
dilada ro bhed khologuroojee re.


keve raavalajee sunno roopaade re,
saachee baat bataavo.
neda nahin hai baag maidaan,
phool kataasu laavo
raavalajee keve raajapadmaanee ne re,
pahala vaadee kahije medate re,
doojee jesan maahi.
teejee vaadee shiv vaadee hai,
chautha amarakot jaanoo.
raavalajee ne keve suno roopaade re,
ab saacha bolo tha
ataro jhooth mat bolo,
raaj hiya ra kholo tha,
mhaara su mukhade bolo,
phulara ro bhed khologuroojee re tha.


kare guru ne yaad roopaade re,
ab mhaaree laaj bachaavo
thaalisu osar hatao,
plet mein baag lagaayo.
roopa pe guroojee ree mehar bhee re,
keve raavalajee suno roopaade re,
baag haradaasu aayo.
aurada aapake paas guru hai
plet vaanchhit baag lagaayo
raavalajee faq panth roopa ro re,
raavalajee ne roopa prshthath vataave,
guru sharan mein haal.
dor dharm ree jaalo,
bhakti ro maarg jaano,
guru vachana mein haalo,
jad amaraapur maano guroojee re ..


जरूर पढ़ें :- बण बादल भगता पर बरसो

जरूर पढ़ें :- सुन मारा मनवा वीर

बाबा रामदेव जी भजन

~ धर धारू रे पाँव धराणा रे ~

धर धारू रे पाँव धराणा रे ,जाए पाप ने धर्म थपोना।
गुरु उगमजी पाट विराजिया,दर्शन हरी रा करना।
रावलजी ने केवे राज पद्मनी रे ,मेर किया कर मानो।
मानोतर केवे मानो,थी समजे समजे हालो,
थी डोर धर्म री ढालों,
थी जद अमरापुर मालो गुरूजी रे।

निवन प्रणाम गुरूजी ने कीजे रे ,हरी मिलावे तो मिलना।
आड़ा अबका घाट घडिजे ,किन वित पार उतरना।
थारू ने केवे बाई रूपादे रे ,आवो धर्म रा वीर हमारा रे ,
बाई रूपा रो धर्म निभाना।
घडी एक पोडो पलंग हमारा ,जमला माय जाना।
वाचक ने केवे बाई रूपादे रे ,केणो बाई रो करना।
भाई रो धर्म निभाना ,थी उत्तर मालजी में देना।
थी धर्म रा वीर हमारा ,
जमला में म्हारे जाना गुरूजी रे।

केवे तातो बैन हमारी रे ,नेचो मन में धरना।
सत्संग में थी जायेंने आवो ,घनी देर नही करना।
रूपा दे ने केवे भाई धर्म रो रे ,
रुमझुम रुमझुम झांझर वाजिया रे ,चौकीदार चेतोडो ।
आलश मरोड़े उठे आंधलो ,जटके सिर धरोना।
परदारन केवे राजपद्मि रे ,जमले जानू माने।
दाऊ सिर सियारो थाने ,आ पग पायल बाजनी थाने ,
आ सात मोजड़ी थाने
आ बात राखजो सानी गुरूजी रे।

सारो गहनों दियो रूपादे रे ,मन में आंधला राजी।
रावल राखे तो घणो रेवाला ,नही तो घर रा वाशी।
रूपादे ने केवे राज रुखलो रे ,
इतरो सुनेनी रूपा हालिया रे ,घर धारू रे आया।
निवन प्रणाम गुरूजी ने कीजो ,संतो ने सीस निवाया।
उगमजी केवे सुंनो संतो रे ,सगला हिलमिल आवो।
थी पाठ अलख रो पुरावो ,पिरारा पगला मंडावो ,
जमला री ज्योत जगावो।
थी जमला री रात जगावो गुरूजी रे।

ढोलक मंजीरा वीणा वाजिया रे ,कोने भजन सुनोना।
चेतन हो चंद्रावल जागी ,ध्यान धरिया चेलाना।
चंद्रावल केवे रावलजी ने रे ,
रावल माल चंद्रावल रांनी रे ,रूपा रे महल हलोना।
कर दीपक में महल संजोयो ,माय वाचक भपकोना।
रावलजी खेसे पालक पसेडो ,शेषनाग सेडोना।
रूपादे नही देखोना ,रावजी रिस करोना ,
चंद्रावल मन हसोना ,
रूपा रा देवे सेलोना गुरूजी रे।

रावलमालजी घोडे चढ़िया रे ,मन में रिष करोना।
साथे तो सालरिया ने लीणो ,घर धारू रे जाना।
सालरिया ने पूछे रावलमालजी रे ,
केवे सालरियो सुनो मालजी ,थितो उबा रहिजो।
मैं तो जाऊ रखियो रे द्वारे ,थोड़ी जेज थी कीजो।
सालरियो जावे घर धारू रे ,जाए बारने होरे।
रूपा री मोजड़ी जोवे ,ओ सोने मोजड़ी लेवे ,
जाए रावल ने देवे ,
जमला री वाता केवे गुरूजी रे।

ज्योत दीवा री धीमी पड़ी रे ,उगमजी अचरज कीनो।
नुगरो मानस आयो जमले ,ज्योत बूजवा लागी।
उगमजी केवे सूना रितधारु रे ,
बाहऱे आयने देखे धारू रे ,रूपा री मोजड़ी कोणी।
वीणा तंदुरा लीना हाथ में रे ,अलख अराधे किणी।
उगमजी जोड़े हाथ अलख ने रे,मैहर बाबा री होवे।
रूपा री मोजड़ी आई ,रूपा री लाज बचाई ,
रूपादे मन हर्षाई ,
गुरु देव री कृपा पाईगुरूजी रे।।

सत री संगत सु चालिया रूपादे रे ,जावे महला सामी।
सामी मिलिया रावलमालजी ,रानी कटासु आया।
रावलजी पूछे राजपद्मानी ने ,
मैं तो गई थी बाग़ बगीचे रे ,फुलड़ा लेवन सारू।
लाइ आपरे फूल गुलाबी ,म्हारे हाथ रो गजरों।
रावलजी ने केवे राजपद्मानी रे ,
रावलजी केवे सुंनो रूपादे ,थितो झूठ मत बोलो।
थितो साची बाता बोलो ,थी राज हिया रा,खोलो ,
म्हारा सु मुखड़े बोलो,
दिलड़ा रो भेद खोलोगुरूजी रे।

केवे रावलजी सुंनो रूपादे रे ,साची बात बतावो।
नेडा नही है बाग़ बगीचा ,फूल कटासु लावो।
रावलजी केवे राजपद्मानी ने रे ,
पहली वाड़ी कहिजे मेड़ते रे ,दूजी जेसाने माहि।
तीजी वाड़ी शिव वाड़ी है ,चौथी अमरकोट जानू।
रावलजी ने केवे सुनो रूपादे रे ,अब थी साचा बोलो।
थी अतरो झूठ मत बोलो ,थी राज हिया रा खोलो ,
म्हारा सु मुखड़े बोलो ,
थी फुलड़ा रो भेद खोलोगुरूजी रे।

करे गुरु ने याद रूपादे रे ,अब म्हारी लाज बचावो।
थालिसु ओसार हटाओ ,थाली में बाग़ लगायो।
रूपा पे गुरूजी री मेहर भई रे ,
केवे रावलजी सुनो रूपादे रे ,बाग़ कठासु आयो।
ऐडा कुन है गुरु तुम्हाराथाली माय बाग़ लगायो।
रावलजी पूछे पंथ रूपा रो रे ,
रावलजी ने रूपा पन्थ वतावे ,गुरु शरण में हालो।
थे डोर धर्म री जालो ,भक्ति रो मार्ग जानो ,
गुरु वचना में हालो ,
थी जद अमरापुर मानो गुरूजी रे।

kishore paliwal bhajan

भजन :- धर धारू रे पाँव धराणा
गायक :- किशोर पालीवाल
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- नाचे टाबरिया बाबा रो

जरूर पढ़ें :- करता डंडोतां आवे

पिछला लेखबलिहारी जाऊं मारा सतगुरु ने किया भरम सब दूर लिरिक्स | balihari jau mhara satguru ne bhajan lyrics
अगला लेखबोल कन्हैया बोल तू तो जेल में जन्म लियो भजन लिरिक्स | bol kanhaiya bol bhajan lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

4 × 5 =