इस काया का भेद गुरु बिन कोई नहीं पाया भजन लिरिक्स | es kaya ka bhed guru bin koi nahi paya lyrics

640

इस काया का भेद गुरु बिन कोई नहीं पाया भजन लिरिक्स

इस काया का भेद गुरु बिन कोई नहीं पाया es kaya ka bhed guru bin koi nahi paya guru ke bhajan lyrics

 ।। दोहा ।।
राम किसी को मारे नहीं ,नहीं है पापी राम।
अपने आप मर जावसी ,कर कर खोटा काम।


~ गुरु बिन कोई नहीं पाया ~

इस काया का भेद ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।
कोई नहीं पाया है ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।


सूर्य चन्द्रमा गण और तारे ,
ये भी आया है।
धरण गगन पवना और पानी ,
अधर ठहराया है।
इस काया का भेद ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।


आप निरंजन अंदर बाहर ,
जगत रचाया है।
समृद्ध होय सकल में व्यापक ,
नजर नहीं आया है।
इस काया का भेद ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।


लख चौरासी जिव बनाकर ,
कलंक लगाया है।
पाप से वो भोगे चौरासी,
स्वर्ग चढ़ाया है।
इस काया का भेद ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।


नवलनाथ सतगुरु मिलिया पूरा ,
भरम मिटाया है।
पदमनाथ का मेट्या सपना ,
तखत रचाया है।
इस काया का भेद ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।


इस काया का भेद ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।
कोई नहीं पाया है ,
गुरु बिन कोई नहीं पाया है।


जरूर पढ़ें :- मारा सतगुरु आया पावणा

जरूर पढ़ें :- गुरु साहिब मैंने अवगुण बहुत किया

guru ke bhajan lyrics in hindi

~ es kaya ka bhed ~

es kaya ka bhed,
guru bin koi nhi paya hai.
koi nhi paya hai,
guru bin koi nhi paya hai .


surya chandrma gan or tare,
ye bhi aaya hai.
dharan gagan pawna or pani,
adhar thehraya hai.
es kaya ka bhed,
guru bin koi nhi paya hai.


aap niranjan andar bahar,
jagat rachaya hai.
samurdh hoy sakal me vyapak,
najar nhi aaya hai.
es kaya ka bhed,
guru bin koi nhi paya hai.


lakh chourasi jiv banakar,
kalank lagaya hai.
pap se bhoge chourasi,
swarg chadaya hai .
es kaya ka bhed,
guru bin koi nhi paya hai.


navalnath satguru milya pura,
bharam mitaya hai.
padamnath ka metya sapna,
takhat rachaya hai .
es kaya ka bhed,
guru bin koi nhi paya hai.


es kaya ka bhed,
guru bin koi nhi paya hai.
koi nhi paya hai,
guru bin koi nhi paya hai .


जरूर पढ़ें :- जानो पड़सी रे पंछी

जरूर पढ़ें :- थारी माता केवे गोपी चंदा

सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ इस काया का भेद गुरु बिन कोई नहीं पाया ~

इस काया का भेद ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।
कोई नहीं पाया है ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।

सूर्य चन्द्रमा गण और तारे ,ये भी आया है।
धरण गगन पवना और पानी ,अधर ठहराया है।
इस काया का भेद ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।

आप निरंजन अंदर बाहर ,जगत रचाया है।
समृद्ध होय सकल में व्यापक ,नजर नहीं आया है।
इस काया का भेद ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।

लख चौरासी जिव बनाकर ,कलंक लगाया है।
पाप से वो भोगे चौरासी, स्वर्ग चढ़ाया है।
इस काया का भेद ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।

नवलनाथ सतगुरु मिलिया पूरा ,भरम मिटाया है।
पदमनाथ का मेट्या सपना ,तखत रचाया है।
इस काया का भेद ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।

इस काया का भेद ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।
कोई नहीं पाया है ,गुरु बिन कोई नहीं पाया है।

desi marwadi bhajan lyrics

भजन :- गुरु बिन कोई नहीं पाया
गायक :- राज मेवाड़ा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- हेरी सखी मंगल गाओ री

जरूर पढ़ें :- शिव तांडव स्तोत्र

पिछला लेखमारा सतगुरु आया पावणा पपैया बोले रे भजन लिरिक्स | mara satguru aaya pawna papiya bole re lyrics
अगला लेखश्री राम दया के सागर है भजन लिरिक्स | shri ram daya ke sagar hai bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

one × five =