जानो पड़सी रे पंछी या बागा ने छोड़ भजन लिरिक्स | jano padsi re panchi bhajan lyrics

866

जानो पड़सी रे पंछी या बागा ने छोड़ भजन लिरिक्स

जानो पड़सी रे पंछी या बागा ने छोड़, jano padsi re panchi  hansa bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
यो मैलो संसार रो,अटे आवण जावण कि रित।
ऐसी करणी कर चलो बिरा, थारा दुनीया गावे गीत।


~ जानो पड़सी रे पंछी ~

जानो पड़सी रे पंछी।
या बागा ने छोड़ ,
एक दिन जानो पड़सी रे।


किया घोंसला चुनचुन तिनका,
पर तेरा विश्वास ना क्षण का।
किया साथ थे किनका किनका,
छोड़ियां सरसी रे।
ओ पंछी सब सखियों को साथ।
एक दिन जाणो पडसी रे।
जानो पड़सी …..


जब तक है पिंजरा में वासा ,
तब तक है दुनिया को आशा।
तब तक है बन माई बासा ,
टेम निकलसी रे।
हो पंछी जो करणो जट करले,
फेर पचताणो पडसी रे।
जानो पड़सी …..


अब ऊडबा को आग्यो दिनडो,
बिलक बिलक बिलकावे जीवडो।
जतना सु राखयो कर बनडो,
आखिर मरसी रे।
हो पंछी फेरिया करणी को दंड ,
दंड ने भरणो पड़सी रे।


जानो पड़सी रे पंछी।
या बागा ने छोड़ ,
एक दिन जानो पड़सी रे।


जरूर पढ़ें :- हेली मारी होजा भजन वाली लार

जरूर पढ़ें :- पिंजरे वाली मैना

hansa bhajan lyrics in hindi

~ jano padsi re panchi ~

jano padsi re panchhi.
ya baga ne chod ,
ek din jano padsi re.


kiya ghosla chun chun tinka,
par tera vishwas na kshan ka.
kiya sath the kinka kinka,
chodiya sarsi re.
o panchi sab sakhiyo ko sath.
ek din jano padsi re.
jano padsi…….


jab tak hai pinhra me vasa,
tab tak hai duniya ko aasha.
tab tak hai ban mai basa,
tem nikalsi re.
o panchi karno jat karle ,
fer pachtano padsi re.
jano padsi…..


ub udba ko aagyo dindo ,
bilak bilak bilkave jivdo.
jatna su rakhyo kar bando,
aakhir marsi re.
ho panchi feriya karni ki dand,
dand ne bharno padsi re.


jano padsi re panchhi.
ya baga ne chod ,
ek din jano padsi re.


जरूर पढ़ें :- काया कोटडी में रंग लाग्यो

जरूर पढ़ें :- चल हंसा उस देश

चेतावनी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ जानो पड़सी रे पंछी ~

जानो पड़सी रे पंछी।
या बागा ने छोड़ ,एक दिन जानो पड़सी रे।

किया घोंसला चुनचुन तिनका,
पर तेरा विश्वास ना क्षण का।
किया साथ थे किनका किनका,छोड़ियां सरसी रे।
ओ पंछी सब सखियों को साथ। एक दिन जाणो पडसी रे।
जानो पड़सी …..

जब तक है पिंजरा में वासा ,
तब तक है दुनिया को आशा।
तब तक है बन माई बासा ,टेम निकलसी रे।
हो पंछी जो करणो जट करले,फेर पचताणो पडसी रे।
जानो पड़सी …..

अब ऊडबा को आग्यो दिनडो,
बिलक बिलक बिलकावे जीवडो।
जतना सु राखयो कर बनडो,आखिर मरसी रे।
हो पंछी फेरिया करणी को दंड ,दंड ने भरणो पड़सी रे।

जानो पड़सी रे पंछी।
या बागा ने छोड़ ,एक दिन जानो पड़सी रे।

gopal das ke bhajan video

भजन :- जानो पड़सी रे पंछी
गायक :- गोपाल दास वैष्णव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- हंस हंस मिठो जग में बोलणो

जरूर पढ़ें :- हंस लो मित्र कोनी थारो

पिछला लेखथारी माता केवे गोपी चंदा भजन लिरिक्स | thari mata ke gopichanda bhajan lyrics
अगला लेखगुरु साहिब मैंने अवगुण बहुत किया भजन लिरिक्स | guru sahib main avgun bahut kiya bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

18 + fourteen =