गुरु साहिब मैंने अवगुण बहुत किया भजन लिरिक्स | guru sahib main avgun bahut kiya bhajan lyrics

443

गुरु साहिब मैंने अवगुण बहुत किया भजन लिरिक्स

गुरु साहिब मैंने अवगुण बहुत किया भजन guru sahib main avgun bahut kiya sat sahib ji bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
नुगरा नर तो मत मिलो , चाहे पापी मिलो हजार।
एक नुगरे रे शीश पर ,लख पापिया रो पाप।


~अवगुण बहुत किया~

अवगुण बहुत किया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


नौ दस मास गर्भ में झूले,
जननी को दुखड़ा दिया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


जितरा पैर धरिया धरण पे ,
पग पग पाप किया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


जितनी तिरिया देखी में नजर से ,
मनसा पाप किया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


पाप कपट की बांधी गठरियाँ ,
सिर पर बोझ धरिया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


धरमी दास शरण आया कबीर सा ,
भव से तार दिया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


अवगुण बहुत किया।
गुरु साहब मैंने ,
अवगुण बहुत किया।


जरूर पढ़ें :- जानो पड़सी रे पंछी

जरूर पढ़ें :- थारी माता केवे गोपी चंदा

sat sahib ji bhajan lyrics in hindi

~ guru sahib main avgun bahut kiya ~

Avgun Bahut Kiya.
guru sahab maine,
Avgun Bahut Kiya.


noh das mas garbh me jhule,
janni ko dukhda diya.
guru sahab maine,
Avgun Bahut Kiya.


jitra per dhariya dharan pe,
pag pag pap kiya .
guru sahab maine,
Avgun Bahut Kiya.


jitni tiriya dekhi me najar se,
mansa pap kiya.
guru sahab maine,
Avgun Bahut Kiya.


pap kapat ki bandhi gathriya,
sir par bojh dariya.
guru sahib main,
avgun bahut kiya.


dharmi das sharan aaya kabir sa,
bhav se tar diya.
guru sahab maine,
Avgun Bahut Kiya.


Avgun Bahut Kiya.
guru sahab maine,
Avgun Bahut Kiya.


जरूर पढ़ें :- हेरी सखी मंगल गाओ री

जरूर पढ़ें :- सीता माता की गोदी में

गुरु जी भजन लिरिक्स इन हिंदी

~ अवगुण बहुत किया ~

अवगुण बहुत किया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

नौ दस मास गर्भ में झूले,जननी को दुखड़ा दिया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

जितरा पैर धरिया धरण पे ,पग पग पाप किया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

जितनी तिरिया देखी में नजर से ,मनसा पाप किया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

पाप कपट की बांधी गठरियाँ ,सिर पर बोझ दरिया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

धरमी दास शरण आया कबीर सा ,भव से तार दिया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

अवगुण बहुत किया।
गुरु साहब मैंने ,अवगुण बहुत किया।

sunita swami ke bhajan lyrics

भजन :- अवगुण बहुत किया
गायिका :- सुनीता स्वामी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- छोड़ मन तू मेरा मेरा

जरूर पढ़ें :- क्या भरोसा है इस जिंदगी

पिछला लेखजानो पड़सी रे पंछी या बागा ने छोड़ भजन लिरिक्स | jano padsi re panchi bhajan lyrics
अगला लेखमारा सतगुरु आया पावणा पपैया बोले रे भजन लिरिक्स | mara satguru aaya pawna papiya bole re lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

1 × one =