छोड़ मन तू मेरा मेरा अंत में कोई नहीं तेरा भजन लिरिक्स | ant me koi nahi tera bhajan lyrics

2204

छोड़ मन तू मेरा मेरा अंत में कोई नहीं तेरा भजन लिरिक्स

छोड़ मन तू मेरा मेरा अंत में कोई नहीं तेरा ant me koi nahi tera chetawani bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
मन पापी मन पारधी, मन चंचळ मन चोर।
मन कै मतै न चालियै, पलक-पलक मन और।।


~ अंत में कोई नहीं तेरा ~

छोड मन तू मेरा-मेरा,
अंत में को‌ई नहीं तेरा।


धन कारण भटक्यो-फिर्‌यो,
रच्या नित नया ढंग।
ढूँढ-ढूढकर पाप कमाया,
चली न कौड़ी संग।
होय गया मालक बहुतेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा।
छोड मन…..


टेढी बाँधी पागड़ी,
बण्यो छबीलो छैल।
धरतीपर गिणकर पग मेल्या,
मौत निमाणी गैल।
बखेर्‌या हाड-हाड तेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा।
छोड मन…..


नित साबुनसैं न्हा‌इयो,
अतर-फ़ुलेल लगाय।
सजी-सजायी पूतली तेरी ,
पडी मसाणाँ जाय।
जलाकर करी भसम-ढेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा॥
छोड मन…..


मदमातो, करड़ो रह्यो,
राक्या राता नैन।
आयानें आदर नहिं दीन्यो,
मुख नहिं मीठा बैन।
अंत जम-दूत आय घेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा॥
छोड मन…..


पर-धन, पर-नारी तकी,
पर चरचा स्यूँ हेत।
पाप-पोट माथे पर मेली,
मूरख रह्यो अचेत।
हु‌आ फिर नरकाँ में डेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा॥
छोड मन…..


राम-नाम लीन्यो नहीं ,
सतसँग स्यूँ नहिं नेह।
जहर पियो, छोड्यो इमरत नै,
अंत पड़ी मुख खेह।
साँस सब बृथा गया तेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा॥
छोड मन…..


दुरलभ देही खो द‌ई,
करम कर्‌या बदकार।
हूँ हूँ करतो मर्‌यो तूँ ,
गयो जमारो हार।
पड्‌यो फिर जनम-मरण फ़ेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा॥
छोड मन…..


काम-क्रोध मद-लोभ तज,
कर अंतर में चेत।
मैं’ ‘मेरे’ ने छोड़ हृदै सें ,
कर श्री हरि स्यूँ हेत।
जनम यूँ सफल होय तेरा।
अंत में को‌ई नहीं तेरा।


छोड मन तू मेरा-मेरा,
अंत में को‌ई नहीं तेरा।


जरूर पढ़ें :- क्या भरोसा है इस जिंदगी का

जरूर पढ़ें :- हंसा ये पिंजरा नहीं तेरा

chetawani bhajan lyrics in hindi

~ ant me koi nahi tera ~

chod man tu mera mera,
ant me koi nhi tera.


dhan karan bhatkyo firyo,
lajya na aay nit dhang.
dhundh dhundh kar pap kamayo,
chale na kodi sang.
ho gaya balak bahu tera,
ant me koi nhi tera.
chod man tu ……


tedi bandhi pagdi,
baniya chabilo chel.
dharati par jin kar pag melya,
moti ne mani ghel.
bikheriya had had tera,
ant me koi nahi tera.
chod man tu ……


nit sabun se nahayo,
atar ful le lagay.
saji sajai put le teri,
padi masana jaay.
jalakar kiya bhasam dera,
ant me koi nhi tera.
chod man tu ……


mad mato karano ryo,
rakhya rata nain.
aaya ne aadar nhi dido,
mukh nhi mitha ben.
ant jam dut aay dera,
ant me koi nhi tera.
chod man tu ……


par dhan par nari taki,
par charcha su het.
pap pot mathe par meli,
murkh ryo achet.
hua fir narko me dera,
ant me koi nhi tera.
chod man tu ……


ram nam liyo nhi,
sansang sune neh.
jahar piyo chodyo amrit ne,
ant padi mukh kheh.
sans sab vrtha gaya tera,
ant me koi nhi tera.
chod man tu ……


durlabh deh kho daie,
karm karya bagtar.
hu hu karto mariyo tu,
gayo jamaro haar.
padiyo fir janma maran fera,
ant me koi nhi tera.
chod man tu ……


kam krodh madh lobh taj,
kar antar me chet.
me me ko chod harday se,
kar shri hari se het.
janam yu safal hoga tera,
ant me koi nhi tera.


chod man tu mera mera,
ant me koi nhi tera.


जरूर पढ़ें :- घूंघट के पट खोल रे

जरूर पढ़ें :- नाम जपन क्यों छोड़ दिया

राजस्थानी देसी भजन

~ छोड़ मन तू मेरा मेरा ~

छोड़ मन तू मेरा मेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।

धन कारण भटक्यो फिर्यो ,लज्या ना आय नित ढंग।
ढूंढ ढूंढ कर पाप कमायो ,चले ना कोड़ी संग।
हो गया बालक बहु तेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

टेडी बाँधी पागड़ी ,बनियो छबिलो छेल।
धरती पर जिन कर पग मेल्या ,मोती ने माणि घेल।
बिखेरिया हाड़ हाड़ तेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

नित् साबुन से नहायो ,अतर फूल ले लगाय।
सजी सजाई पूत ले तेरी ,पड़ी मसाणा जाय।
जलाकर किया भसम ढेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

मद मतों कारणों रयो ,राख्या राता नैन।
आया ने आदर नहीं दिदो ,मुख नहीं मीठा बेन।
अंत जम दूत आय ढेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

पर धन पर नारी तकी ,पर चर्चा सु हेत।
पाप पॉट माथे पर मेली ,मुर्ख रयो अचेत।
हुवा फिर नरको में डेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

राम नाम लियो नहीं ,सत्संग सुने नेह।
जहर पियो छोड्यो अमृत ने ,अंत पड़ी मुख खेह।
साँस सब वृथा गया तेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

दुर्लभ देह खो देई ,कर्म कर्या बगतार।
हु हु करतो मारियो तू ,गयो जमारो हार।
पड़ियो फिर जनम मरण फेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।
छोड़ मन तू …..

काम क्रोध मध् लोभ तज ,कर अंतर में चेत।
में में को छोड़ हर्दय से ,कर श्री हरी से हेत।
जनम यु सफल होगा तेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।

छोड़ मन तू मेरा मेरा ,अंत में कोई नहीं तेरा।

sunita swami bhajan video

 

भजन :- अंत में कोई नहीं तेरा
गायिका :- सुनीता स्वामी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- रे मन हरि सुमिरन कर लीजिए

जरूर पढ़ें :- बंसी बजा के श्याम ने

पिछला लेखक्या भरोसा है इस जिंदगी का भजन लिरिक्स | kya bharosa hai is jindagi ka bhajan lyrics
अगला लेखसीता माता की गोदी में हनुमत डाली मुंदरी भजन लिरिक्स | sita mata ki godi mein bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

fifteen + 12 =