माखन चोर नंद किशोर भजन लिरिक्स | makhan chor nand kishore bhajan lyrics

372

माखन चोर नंद किशोर भजन लिरिक्स

माखन चोर नंद किशोर भजन makhan chor nand kishore bhajan krishna bhajan lyrics in hindi

 ~ माखन चोर नन्द किशोर ~

माखन चोर नन्द किशोर,
मन मोहन, घनश्याम रे।
कितने तेरे रूप रे ,
कितने तेरे नाम रे।


देवकी माँ ने जनम दिया और ,
मैया यशोदा ने पाला।
तू गोकुल का ग्वाला बिंद्रा ,
बन गया बंसरी वाला
आज तेरी बंसी फिर बाजी ,
मेरे मन के धाम रे।
कितने तेरे रूप रे ,
कितने तेरे नाम रे।
माखन चोर …….


काली नाग के साथ लड़ा तू ,
ज़ालिम कंस को मारा।
बाल अवस्था में ही तुने ,
खेला खेल ये सारा।
तेरा बचपन तेरा जीवन ,
जैसे एक संग्राम रे।
कितने तेरे रूप रे ,
कितने तेरे नाम रे।
माखन चोर …….


तुने सब का चैन चुराया ,
ओ चितचोर कन्हैया।
जाने कब घर आए देखे ,
राह यशोदा मैया।
व्याकुल राधा ढूंढे श्याम ,
न आया हो गई शाम रे।
कितने तेरे रूप रे ,
कितने तेरे नाम रे।


माखन चोर नन्द किशोर,
मन मोहन, घनश्याम रे।
कितने तेरे रूप रे ,
कितने तेरे नाम रे।


जरूर पढ़ें :- यशोमती मैया से बोले नंदलाला

जरूर पढ़ें :- अच्युतम केशवं कृष्ण दामोदरं

krishna bhajan lyrics in hindi

~ makhan chor nand kishore ~

makhan chor nand kishor,
man mohan ghanshyam re.
kitne tere rup re,
kitne tere naam re.


dev ki ne janam diya or,
maiya yashoda ne pala.
t gokul ka gwala bindra,
ban gaya bansari wala,
aaj teri bansi fir baji,
mere man ke dham re.
kitne tere rup re,
kitne tere naam re.
makhan chor …….


kali nag ke sath lada tu,
jalim kans ko mara.
bal avstha me hi tune,
khela khel ye sara.
tera bachpan tera jivan,
jaise ek sangram re.
kitne tere rup re,
kitne tere naam re.
makhan chor …….


tune sab ka chain churaya,
o chitchor kanhaiya .
jane kab ghar aaye dekhe,
rah yashoda maiya.
vyakul radha dhundhe shyam,
ne aaya ho gai sham re.
kitne tere rup re,
kitne tere naam re.


makhan chor nand kishor,
man mohan ghanshyam re.
kitne tere rup re,
kitne tere naam re.


जरूर पढ़ें :- किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाये

जरूर पढ़ें :- श्यामा तेरे चरणों की गर धूल

श्री कृष्ण भगवान के हिंदी भजन

~ माखन चोर नंद किशोर ~

माखन चोर नन्द किशोर, मन मोहन, घनश्याम रे।
कितने तेरे रूप रे ,कितने तेरे नाम रे।

देवकी माँ ने जनम दिया और ,मैया यशोदा ने पाला।
तू गोकुल का ग्वाला बिंद्रा ,बन गया बंसरी वाला
आज तेरी बंसी फिर बाजी ,मेरे मन के धाम रे।
कितने तेरे रूप रे ,कितने तेरे नाम रे।
माखन चोर …….

काली नाग के साथ लड़ा तू ,ज़ालिम कंस को मारा।
बाल अवस्था में ही तुने ,खेला खेल ये सारा।
तेरा बचपन तेरा जीवन ,जैसे एक संग्राम रे।
कितने तेरे रूप रे ,कितने तेरे नाम रे।
माखन चोर …….

तुने सब का चैन चुराया ,ओ चितचोर कन्हैया।
जाने कब घर आए देखे ,राह यशोदा मैया।
व्याकुल राधा ढूंढे श्याम ,न आया हो गई शाम रे।
कितने तेरे रूप रे ,कितने तेरे नाम रे।

माखन चोर नन्द किशोर, मन मोहन, घनश्याम रे।
कितने तेरे रूप रे ,कितने तेरे नाम रे।

mohammad rafi bhajan lyrics

भजन :- माखन चोर नन्द किशोर
गायक :- मोहम्मद रफ़ी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मोहन से दिल क्यूँ लगाया है

जरूर पढ़ें :- यह तो प्रेम की बात है उधो

पिछला लेखयशोमती मैया से बोले नंदलाला लिरिक्स | yashomati maiya se bole nandlala bhajan lyrics
अगला लेखवीर हनुमाना अति बलवाना राम राम रसियो रे भजन लिरिक्स | veer hanumana ati balwana lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

18 + 13 =