मोहन से दिल क्यूँ लगाया है भजन लिरिक्स | mohan se dil kyon lagaya hai bhajan lyrics

882

मोहन से दिल क्यूँ लगाया है भजन लिरिक्स

मोहन से दिल क्यूँ लगाया है लिरिक्स mohan se dil kyon lagaya hai shri krishna bhajan lyrics in hindi

 ।। दोहा ।।
पाप धरा पे जब बढ़े , लेते प्रभु अवतार ।
भव सागर से भक्त को, हरि ही लेत उबार ।


~ मोहन से दिल क्यूँ लगाया ~

मोहन से दिल क्यूँ लगाया है,
यह मैं जानू या वो जाने।
छलिया से दिल क्यूँ लगाया है,
यह मैं जानू या वो जाने।


हर बात निराली है उसकी,
कर बात में है इक टेडापन ।
टेड़े पर दिल क्यूँ आया है,
यह मैं जानू या वो जाने।
मोहन से दिल ….


जितना दिल ने तुझे याद किया,
उतना जग ने बदनाम किया।
बदनामी का फल क्या पाया हैं,
यह मैं जानू या वो जाने।
मोहन से दिल ….


तेरे दिल ने दिल दीवाना किया,
मुझे इस जग से बेगाना किया।
मैंने क्या खोया क्या पाया हैं,
यह मैं जानू या वो जाने।
मोहन से दिल ….


मिलता भी है वो मिलता भी नहीं,
नजरो से मेरी हटता भी नहीं।
यह कैसा जादू चलाया है,
यह मैं जानू या वो जाने।


मोहन से दिल क्यूँ लगाया है,
यह मैं जानू या वो जाने।
छलिया से दिल क्यूँ लगाया है,
यह मैं जानू या वो जाने।


जरूर पढ़ें :- कभी फुर्सत हो तो जगदंबे

जरूर पढ़ें :- दीवाना तेरा आया बाबा

shri krishna bhajan lyrics in hindi

~ mohan se dil kyon lagaya hai ~

mohan se dil kyu lagaya hai,
yah me janu ya wo jane.
chaliya se dil kyu lagaya hai,
yah me janu ya wo jane.


har bat nirali hai uski,
kar bat me hai ek tetapan.
tede par dil kyu aaya hai,
yah me janu ya wo jane.
mohan se dil……


jitna dil ne tujhe yad kiya,
utna jag ne badnam kiya.
badnami ka fal kya paya hai,
yah me janu ya wo jane.
mohan se dil……


tere dil ne dil diwana kiya,
mujhe is jag se begana kiya.
mene kya khoya kya paya he,
yah me janu ya wo jane.
mohan se dil……


milta bhi he wo milta bhi nhi,
najro se meri hatta bhi nhi.
yah kaisa jadu chalaya hai,
yah me janu ya wo jane.


mohan se dil kyu lagaya hai,
yah me janu ya wo jane.
chaliya se dil kyu lagaya hai,
yah me janu ya wo jane.


जरूर पढ़ें :- सिया राम जी का डंका

जरूर पढ़ें :-यह तो प्रेम की बात है उधो

कृष्ण कन्हैया के भजन hindi lyrics

~ मोहन से दिल क्यूँ लगाया है ~

मोहन से दिल क्यूँ लगाया है, यह मैं जानू या वो जाने।
छलिया से दिल क्यूँ लगाया है, यह मैं जानू या वो जाने।

हर बात निराली है उसकी, कर बात में है इक टेडापन ।
टेड़े पर दिल क्यूँ आया है, यह मैं जानू या वो जाने।
मोहन से दिल ….

जितना दिल ने तुझे याद किया, उतना जग ने बदनाम किया।
बदनामी का फल क्या पाया हैं, यह मैं जानू या वो जाने।
मोहन से दिल ….

तेरे दिल ने दिल दीवाना किया, मुझे इस जग से बेगाना किया।
मैंने क्या खोया क्या पाया हैं, यह मैं जानू या वो जाने।
मोहन से दिल ….

मिलता भी है वो मिलता भी नहीं, नजरो से मेरी हटता भी नहीं।
यह कैसा जादू चलाया है, यह मैं जानू या वो जाने।

मोहन से दिल क्यूँ लगाया है, यह मैं जानू या वो जाने।
छलिया से दिल क्यूँ लगाया है, यह मैं जानू या वो जाने।

kanhaiya bhajan lyrics video

 

भजन :- मोहन से दिल क्यूँ लगाया
गायक :- unknown
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- तेरी मुरली की धुन सुनने

जरूर पढ़ें :- छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना

पिछला लेखकभी फुर्सत हो तो जगदंबे निर्धन के घर भी आ जाना भजन लिरिक्स | kabhi fursat ho to jagdambe lyrics
अगला लेखराम कहानी सुनो रे राम कहानी लिरिक्स | ram kahani suno re ram kahani lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

6 + 9 =