बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया भजन लिरिक्स | brij ke nandlala radha ke sawariya lyrics

368

बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया भजन लिरिक्स

बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया brij ke nandlala radha ke sawariya lyrics radhe krishna bhajan hindi lyrics

 ।। दोहा ।।
पर्वत जैसी पीर है ,ह्रदय बहुत अकुलाय।
राधा राधा जपत है ,विरही मन मुरझाय।


~ बृज के नंदलाला ~

बृज के नंदलाला ,
राधा के सांवरिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया।


मीरा पुकारी जब ,
गिरिधर गोपाला।
ढल गया अमृत में ,
विष का भरा प्याला।
कौन मिटाए उसे,
जिसे तू राखे पिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया। टेर।


जब तेरे गोकुल में ,
आया दुख भारी।
एक इशारे से ,
सब विपदा टारी।
मुड़ गया गोवर्धन ,
तुने जहाँ मोड़ दिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया । टेर।


नैनो में श्याम बसे ,
मन में गिरधारी।
सुध बिसराए गई ,
मुरली की धुन प्यारी।
मन के मधुबन में ,
रास रचाये रसिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया


बृज के नंदलाला ,
राधा के सांवरिया।
सभी दुःख दूर हुए ,
जब तेरा नाम लिया।


जरूर पढ़ें :- बांके बिहारी की देख छटा

जरूर पढ़ें :- तारा है सारा जमाना

radhe krishna bhajan hindi lyrics

~ brij ke nandlala radha ke sawariya ~

bruj ke nandlala,
radha ke sanwariya.
sabhi dukh dur huye,
jab tera nam liya.


meera pukari jab,
giridhar gopala.
dhal gaya amrut me,
vish ka bhara pyala.
kon mitaye use,
jise tu rakhe piya.
sabhi dukh dur huye,
jab tera nam liya.


jab tere gokul me,
aaya dukh bhari.
ek eshare se,
sab vipda tari.
mud gaya govardhan,
tune jaha mod diya.
sabhi dukh dur huye,
jab tera nam liya.


naino me shyam base,
man me girdhari.
sudh bisrai gai,
murli ki dhun pyari.
man ke madhuvan me,
ras rachaye rasiya.
sabhi dukh dur huye,
jab tera nam liya.


bruj ke nandlala,
radha ke sanwariya.
sabhi dukh dur huye,
jab tera nam liya.


जरूर पढ़ें :- कन्हैया कन्हैया पुकारा

जरूर पढ़ें :- अगर श्याम सुंदर का सहारा न होता

राधा कृष्ण भजन लिरिक्स

~ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया ~

बृज के नंदलाला ,राधा के सांवरिया।
सभी दुःख दूर हुए , जब तेरा नाम लिया।

मीरा पुकारी जब ,गिरिधर गोपाला।
ढल गया अमृत में ,विष का भरा प्याला।
कौन मिटाए उसे, जिसे तू राखे पिया।
सभी दुःख दूर हुए , जब तेरा नाम लिया। टेर।

जब तेरे गोकुल में , आया दुख भारी।
एक इशारे से ,सब विपदा टारी।
मुड़ गया गोवर्धन ,तुने जहाँ मोड़ दिया।
सभी दुःख दूर हुए , जब तेरा नाम लिया । टेर।

नैनो में श्याम बसे , मन में गिरधारी।
सुध बिसराए गई ,मुरली की धुन प्यारी।
मन के मधुबन में ,रास रचाये रसिया।
सभी दुःख दूर हुए , जब तेरा नाम लिया

बृज के नंदलाला ,राधा के सांवरिया।
सभी दुःख दूर हुए , जब तेरा नाम लिया।

hindi bhajan lyrics in hindi

 

भजन :- बृज के नंदलाला
गायक :- अनिल हँसलस
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- लेके गौरा जी को साथ

जरूर पढ़ें :- सभा में मेरी लाज रखना 

पिछला लेखबांके बिहारी की देख छटा मेरो मन है गयो लटा पटा भजन लिरिक्स | banke bihari ki dekh chhata lyrics
अगला लेखमुकुट सिर मोर का मेरे चित चोर का भजन लिरिक्स | mukut sir mor ka bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

11 − six =