थारो मनक जमारो बार बार नहीं आवणो रे भजन लिरिक्स | tharo manak jamaro bar bar nhi avano re bhajan lyrics

2780

थारो मनक जमारो बार बार नहीं आवणो रे भजन लिरिक्स

थारो मनक जमारो बार बार नहीं आवणो रे  tharo manak jamaro bar bar nhi avano re sunita swami ke chetavani bhajan

 ।। दोहा ।।
कबीर इस संसार में , कई गग्गू कई डोड।
ना मरने रो डर है , और ना तिरने रो कोड।


।। बीरा थारो मनक जमारो ।।

बीरा थारो मनक जमारो ,
बार बार नहीं आवणो रे।
बीरा थारो धन जोबन परिवार ,
दोई दिन पावणो रे।


क का , करम सुधारो थारो ,
ख खा , खोवो ना विरथ जमारो ,
ग गा , गर्व ना दिल में धारो।
घ घा , घोर करो घट माय ,
एक दिन जावणो रे।
बीरा थारो …..


च चा ,चतुर बनो नर नारी ,
छ छा ,छल ने तज सारी ,
ज जा ,जसली जोथे भारी।
झ झा ,झूठो यो संसार ,
मन बेलावणो रे।
बीरा थारो …..


ट टा ,टेक राखजो थारी ,
ठ ठा ,ठगनी तज दो सारी ,
ड डा ,डोल मती मतवारी।
ढ ढा ,ढली जवानी जाय ,
फिर पछतावणो रे।
बीरा थारो …..


त ता ,तरवर सैती काया ,
थ था ,थिरणी थारी माया ,
द दा ,दिल में दाग लगाया।
ध धा ,धर्म पे चल ना पाया ,
न ना ,नीच कर्म कर आप ,
घोर नरक जावणो रे।
बीरा थारो …..


प पा ,प्रेम रखो सब प्राणी ,
फ फा ,फेल फिजूल फैलाणी ,
ब बा ,बोलो अमृत वाणी ,
भ भा ,भूल्यो भॅवर सुजाणी ,
म मा ,मोह माया ने छोड़ ,
अकेलो जावणो रे।
बीरा थारो …..


य या ,यह अवसर फिर नाई ,
र रा ,रखो राम घट माई ,
ल ला ,लक्मी जानो पराई ,
व् वा ,वास करो सुभ थोड़ ,
सुभ गति पावणो रे।
बीरा थारो …..


श शा शुभ कर्मो में लागो ,
ष षा षट पट ने थे त्यागो ,
स सा सत से दूर मत भागो ,
ह हा हाथ कमायो खानो ,
नहीं पछतावणो रे।
बीरा थारो …..


क्ष क्षा क्षत्रिय बड़ो बलकारी ,
त्र त्रा त्राय त्राय कर हारी ,
ज्ञ ज्ञा ज्ञान करो त्रिकाल ,
बुध समजावणो रे।


बीरा थारो मनक जमारो ,
बार बार नहीं आवणो रे।
बीरा थारो धन जोबन परिवार ,
दोई दिन पावणो रे।


जरूर पढ़ें :- ऐसो नहीं है जन्म बारंबार

जरूर पढ़ें :- पांडवा कलयुग आसी भारी

chetawani bhajan lyrics in hindi

!! manak jamaro bar bar nhi avano !!

beera thaaro manak jamaaro ,
baar baar nahin aavano re.
beera thaaro dhan joban parivaar ,
doee din paavano re.


ka ka , karam sudhaaro thaaro ,
kh kha , khovo na virath jamaaro ,
ga ga , garv na dil mein dhaaro.
gh gha , ghor karo ghat maay ,
ek din jaavano re.
beera thaaro …..


ch cha ,chatur bano nar naaree ,
chh chha ,chhal ne taj saaree ,
ja ja ,jasalee jothe bhaaree.
jh jha ,jhootho yo sansaar ,
man belaavano re.
beera thaaro …..


ta ta ,tek raakhajo thaaree ,
th tha ,thaganee taj do saaree ,
da da ,dol matee matavaaree.
dh dha ,dhalee javaanee jaay ,
phir pachhataavano re.
beera thaaro …..


ta ta ,taravar saitee kaaya ,
th tha ,thiranee thaaree maaya ,
da da ,dil mein daag lagaaya.
dh dha ,dharm pe chal na paaya ,
na na ,neech karm kar aap ,
ghor narak jaavano re.
beera thaaro …..


pa pa ,prem rakho sab praanee ,
ph pha ,phel phijool phailaanee ,
ba ba ,bolo amrt vaanee ,
bh bha ,bhoolyo bhaivar sujaanee ,
ma ma ,moh maaya ne chhod ,
akelo jaavano re.
beera thaaro …..


ya ya ,yah avasar phir naee ,
ra ra ,rakho raam ghat maee ,
la la ,lakmee jaano paraee ,
v va ,vaas karo subh thod ,
subh gati paavano re.
beera thaaro …..


sh sha shubh karmo mein laago ,
sh sha shat pat ne the tyaago ,
sa sa sat se door mat bhaago ,
ha ha haath kamaayo khaano ,
nahin pachhataavano re.
beera thaaro …..


ksh ksha kshatriy bado balakaaree ,
tr tra traay traay kar haaree ,
gy gya gyaan karo trikaal ,
budh samajaavano re.


beera thaaro manak jamaaro ,
baar baar nahin aavano re.
beera thaaro dhan joban parivaar ,
doee din paavano re.


जरूर पढ़ें :- समझ मन मायला रे

जरूर पढ़ें :- बिणज करण व्यापारी आया

के का भजन लिरिक्स इन हिंदी

!! मनक जमारो बार बार नहीं आवणो !!

बीरा थारो मनक जमारो ,बार बार नहीं आवणो रे।
बीरा थारो धन जोबन परिवार ,दोई दिन पावणो रे।

क का , करम सुधारो थारो ,ख खा , खोवो ना विरथ जमारो ,
ग गा , गर्व ना दिल में धारो ,घ घा , घोर करो घट माय ,
एक दिन जावणो रे। बीरा थारो …..

च चा ,चतुर बनो नर नारी ,छ छा ,छल ने तज सारी ,
ज जा ,जसली जोथे भारी , झ झा ,झूठो यो संसार ,
मन बेलावणो रे। बीरा थारो …..

ट टा ,टेक राखजो थारी ,ठ ठा ,ठगनी तज दो सारी ,
ड डा ,डोल मती मतवारी ,ढ ढा ,ढली जवानी जाय ,
फिर पछतावणो रे। बीरा थारो …..

त ता ,तरवर सैती काया ,थ था ,थिरणी थारी माया ,
द दा ,दिल में दाग लगाया।
ध धा ,धर्म पे चल ना पाया ,न ना ,नीच कर्म कर आप ,
घोर नरक जावणो रे। बीरा थारो …..

प पा ,प्रेम रखो सब प्राणी ,फ फा ,फेल फिजूल फैलाणी ,
ब बा ,बोलो अमृत वाणी।
भ भा ,भूल्यो भॅवर सुजाणी ,म मा ,मोह माया ने छोड़ ,
अकेलो जावणो रे। बीरा थारो …..

य या ,यह अवसर फिर नाई ,र रा ,रखो राम घट माई ,
ल ला ,लक्मी जानो पराई ,व् वा ,वास करो सुभ थोड़ ,
सुभ गति पावणो रे। बीरा थारो …..

श शा शुभ कर्मो में लागो ,ष षा षट पट ने थे त्यागो ,
स सा सत से दूर मत भागो ,ह हा हाथ कमायो खानो ,
नहीं पछतावणो रे। बीरा थारो …..

क्ष क्षा क्षत्रिय बड़ो बलकारी ,त्र त्रा त्राय त्राय कर हारी ,
ज्ञ ज्ञा ज्ञान करो त्रिकाल ,बुध समजावणो रे।

बीरा थारो मनक जमारो ,बार बार नहीं आवणो रे।
बीरा थारो धन जोबन परिवार ,दोई दिन पावणो रे।

sunita swami ke chetavani bhajan video

भजन :- मनक जमारो बार बार नहीं आवणो
गायिका :- सुनीता स्वामी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- भक्ति रा मार्ग झीना रे संतो

जरूर पढ़ें :- सतगुरु शरण जाई राम भज लेना

पिछला लेखऐसो नहीं है जन्म बारंबार भजन लिरिक्स | aiso nhi hai janam barambar bhajan lyrics
अगला लेखसांवली सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया भजन लिरिक्स | sanwali surat pe mohan bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

16 − 15 =