भक्ति रा मार्ग झीना रे संतो भजन लिरिक्स | bhakti ra marag jeena bhajan lyrics

459

भक्ति रा मार्ग झीना रे संतो भजन लिरिक्स

भक्ति रा मार्ग झीना रे संतो  bhakti ra marag jeena desi marwadi chetawani bhajan lyrics

 ।। दोहा ।।
भक्ति बीज पलते नहीं जो जुग जाय अनंत।
उच नीच घर अवतरे वो रहे संत को संत।


।। भगती रा मारग झीणा ।।

भगती रा मारग झीणा, रे संतों,
भगती रा मारग झीणा।
थोड़ो समझ नी, थोड़ो समझ नी,
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


एक नर बामण, दोय नर बामण,
बामण घणां घणां हुवा।
वेद पुराण री खबर नी जाणी,
टिपनो बांच बांच मुवा।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा


एक नर बाणिया, दोय नर बाणिया,
बाणिया घणा घणा हुआ।
पारस नाथ री खबर नी जानी,
मुंडो बांध मद मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


अरे एक नर मुस्लिम दोय नर मुस्लिम,
मुस्लिम घणा घणा हुआ।
अल्लाह खुदा री खबर नी जानी,
गोडा रगड़ ने मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


एक नर नाई दोय नर नाई,
नाई घणा घणा हुआ।
सेन भगत री खबर नी जानी,
माथो रगड़ ने मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


एक नर माळी दोय नर माळी,
माळी घणा घणा हुआ।
संत लिखमोजी री खबर नी जानी,
कांदा रोप रोप मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


एक नर दरजी दोय नर दरजी,
दरजी घणा घणा हुआ।
छिपा पीपा री खबर नी जानी,
कपडो काट काट मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


एक नर रेगर दोय नर रेगर,
रेगर घणा घणा हुआ।
रविदासजी री खबर नी जानी,
खालडा बेच बेच मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


केवे कमाल सुनो भई संतो ,
साचा संत वे हुआ।
हरि नाम री डोरी पकडी ,
आवागमन नही हुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।


जरूर पढ़ें :- सतगुरु शरण जाई राम भज लेना

जरूर पढ़ें :- जग में नींद नी लेवे नौ जना

desi marwadi chetawani bhajan lyrics

!! bhakti ra marag jeena !!

bhagatee ra maarag jheena, re santon,
bhagatee ra maarag jheena.
thodo samajh nee, thodo samajh nee,
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


ek nar baaman, doy nar baaman,
baaman ghanaan ghanaan huva.
ved puraan ree khabar nee jaanee,
tipano baanch baanch muva.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena,


ek nar baaniya, doy nar baaniya,
baaniya ghana ghana hua.
paaras naath ree khabar nee jaanee,
mundo baandh mad mua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


are ek nar muslim doy nar muslim,
muslim ghana ghana hua.
allaah khuda ree khabar nee jaanee,
goda ragad ne mua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


ek nar naee doy nar naee,
naee ghana ghana hua.
sen bhagat ree khabar nee jaanee,
maatho ragad ne mua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


ek nar maalee doy nar maalee,
maalee ghana ghana hua.
sant likhamojee ree khabar nee jaanee,
kaanda rop rop mua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


ek nar darajee doy nar darajee,
darajee ghana ghana hua.
chhipa peepa ree khabar nee jaanee,
kapado kaat kaat mua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


ek nar regar doy nar regar,
regar ghana ghana hua.
ravidaasajee ree khabar nee jaanee,
khaalada bech bech mua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


keve kamaal suno bhee santo ,
saacha sant ve hua.
hari naam ree doree pakadee ,
aavaagaman nahee hua.
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.
thodee samajh pakad, man sua,
kabeer keve bhagatee ra maarag jheena.


जरूर पढ़ें :- हरि गुण गायले रे

जरूर पढ़ें :- राम दूत हनुमान भरोसा भारी है

राजस्थानी चेतावनी भजन लिरिक्स

!! भक्ति रा मार्ग झीना रे संतो !!

भगती रा मारग झीणा, रे संतों,भगती रा मारग झीणा।
थोड़ो समझ नी, थोड़ो समझ नी,थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

एक नर बामण, दोय नर बामण,बामण घणां घणां हुवा।
वेद पुराण री खबर नी जाणी,टिपनो बांच बांच मुवा।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा,

एक नर बाणिया, दोय नर बाणिया,बाणिया घणा घणा हुआ।
पारस नाथ री खबर नी जानी,मुंडो बांध मद मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

अरे एक नर मुस्लिम दोय नर मुस्लिम,मुस्लिम घणा घणा हुआ।
अल्लाह खुदा री खबर नी जानी,गोडा रगड़ ने मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

एक नर नाई दोय नर नाई,नाई घणा घणा हुआ।
सेन भगत री खबर नी जानी,माथो रगड़ ने मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

एक नर माळी दोय नर माळी,माळी घणा घणा हुआ।
संत लिखमोजी री खबर नी जानी,कांदा रोप रोप मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

एक नर दरजी दोय नर दरजी,दरजी घणा घणा हुआ।
छिपा पीपा री खबर नी जानी,कपडो काट काट मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

एक नर रेगर दोय नर रेगर,रेगर घणा घणा हुआ।
रविदासजी री खबर नी जानी,खालडा बेच बेच मुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।

केवे कमाल सुनो भई संतो , साचा संत वे हुआ।
हरि नाम री डोरी पकडी , आवागमन नही हुआ।
कबीर केवे भगती रा मारग झीणा।
थोड़ी समझ पकड़, मन सुआ,कबीर केवे भगती रा मारग झीणा। 

मोइनुद्दीन मनचला के भजन video

 

भजन :- भगती रा मारग झीणा
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मानुष जन्म अनमोल रे

जरूर पढ़ें :- भए प्रगट कृपाला दीन दयाला

पिछला लेखसतगुरु शरण जाई राम भज लेना भजन लिरिक्स | Satguru Sharane Jaay Ram Bhaj Lena bhajan lyrics
अगला लेखबिणज करण व्यापारी आया भजन लिरिक्स | binaj karan vyapari aaya bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

1 × 3 =