एक मीरा एक राधा दोनों ने श्याम को चाहा लिरिक्स | ek meera ek radha dono ne shyam ko chaha lyrics

586

एक मीरा एक राधा दोनों ने श्याम को चाहा लिरिक्स

एक मीरा एक राधा दोनों ने श्याम को चाहा ek meera ek radha dono ne shyam ko chaha krishna bhajan lyrics

 ।। एक राधा एक मीरा ।।

एक राधा एक मीरा ,
दोनों ने श्याम को चाहा।
अन्तर क्या दोनों की चाह में बोलो।
इक प्रेम दीवानी,
इक दरश दीवानी।


राधा ने मधुबन में ढूँढा ,
मीरा ने मन में पाया।
राधा जिसे खो बैठी ,
वो गोविन्द मीरा दरश दिखाया।
एक मुरली एक पायल,
एक पगली एक घायल।
अन्तर क्या दोनों की प्रीत में बोलो।
एक सूरत लुभानी,
एक मूरत लुभानी।
इक प्रेम दीवानी,
इक दरश दीवानी।


मीरा के प्रभु गिरिधर नागर ,
राधा के मनमोहन।
राधा नित श्रृंगार करे ,
और मीरा बन गयी जोगन।
एक रानी एक दासी,
दोनों हरि प्रेम की प्यासी।
अन्तर क्या दोनों की तृप्ति में बोलो।
एक जीत न मानी,
एक हार न मानी।
इक प्रेम दीवानी,
इक दरश दीवानी।


एक राधा एक मीरा ,
दोनों ने श्याम को चाहा।
अन्तर क्या दोनों की चाह में बोलो।
इक प्रेम दीवानी,
इक दरश दीवानी।


जरूर पढ़ें :-  तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार

जरूर पढ़ें :-  लगन तुमसे लगा बैठे

ek meera ek radha dono ne shyam ko chaha lyrics in hindi

!! meera bai bhajan !!

ek raadha ek meera ,
donon ne shyaam ko chaaha.
antar kya dono ki chah me bolo.
ik prem deevaanee,
ik darash deevaanee.


radha ne madhuban me dhundha ,
meera ne man mein paaya.
raadha jise kho baithee ,
vo govind meera darash dikhaaya.
ek muralee ek paayal,
ek pagalee ek ghaayal.
antar kya dono ki preet me bolo.
ek soorat lubhaanee,
ek moorat lubhaanee.
ik prem deevaanee,
ik darash deevaanee.


meera ke prabhu giridhar naagar ,
raadha ke manamohan.
raadha nit shrrngaar kare ,
aur meera ban gayee jogan.
ek raanee ek daasee,
donon hari prem kee pyaasee.
antar kya dono ki trpti me bolo.
ek jeet na maanee,
ek haar na maanee.
ik prem deevaanee,
ik darash deevaanee.


ek raadha ek meera ,
donon ne shyaam ko chaaha.
antar kya dono ki chah me bolo.
ik prem deevaanee,
ik darash deevaanee.


जरूर पढ़ें :-  मुझे दिल की बीमारी है

जरूर पढ़ें :- मेरे सरकार आए हैं 

एक मीरा एक राधा दोनों ने श्याम को चाहा भजन हिंदी लिरिक्स

!! मीरा बाई भजन !!

एक राधा एक मीरा ,दोनों ने श्याम को चाहा।
अन्तर क्या दोनों की चाह में बोलो।
इक प्रेम दीवानी, इक दरश दीवानी।

राधा ने मधुबन में ढूँढा ,मीरा ने मन में पाया।
राधा जिसे खो बैठी ,वो गोविन्द मीरा दरश दिखाया।
एक मुरली एक पायल, एक पगली एक घायल।
अन्तर क्या दोनों की प्रीत में बोलो।
एक सूरत लुभानी, एक मूरत लुभानी।
इक प्रेम दीवानी, इक दरश दीवानी।

मीरा के प्रभु गिरिधर नागर ,राधा के मनमोहन।
राधा नित श्रृंगार करे ,और मीरा बन गयी जोगन।
एक रानी एक दासी, दोनों हरि प्रेम की प्यासी।
अन्तर क्या दोनों की तृप्ति में बोलो।
एक जीत न मानी, एक हार न मानी।
इक प्रेम दीवानी, इक दरश दीवानी।

एक राधा एक मीरा ,दोनों ने श्याम को चाहा।
अन्तर क्या दोनों की चाह में बोलो।
इक प्रेम दीवानी, इक दरश दीवानी।

lata mangeshkar krishna bhajan video 

 

भजन :- एक राधा एक मीरा
गायिका :- लता मंगेशकर
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने

जरूर पढ़ें :- मिलता है सच्चा सुख केवल

पिछला लेखहमारे गुरु मिले ब्रह्मज्ञानी भजन लिरिक्स | hamare guru mile brahmgyani bhajan lyrics
अगला लेखअम्बे तू है जगदम्बे काली जय दुर्गे खप्पर वाली लिरिक्स | ambe tu hai jagdambe kali aarti lyrics

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

four + three =