दारुडिया ने अलगो बालो रे भजन लिरिक्स | Darudiya Ne Algo Balo bhajan lyrics

192

दारुडिया ने अलगो बालो रे भजन लिरिक्स

दारुडिया ने अलगो बालो रे Darudiya Ne Algo Balo राजस्थानी लोक भजन लिरिक्स

 ।। दोहा ।।
राम राज में दूध मिलिया, कृष्ण राज में घी।
कलयुग में दारु मिलियो, सोच समझ ने पी।


।। दारुढिया ने अलगो बालो ।।

दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।
भुंडी आवे वास ,
ने तन रो कीनो नास।
दारुढिया ने अलगो बालो रे ,
भुंडी आवे वास।


सगाँ संबंधी आवे ,
वे बैठा – बैठा भाले।
बैठा – बैठा भाले ,
वे सुथा – सुथा भाले।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..


काम काज तो करे न कोई ,
सिदो ठेका पे जावे।
वेगो उठे ने खेता में जावे ,
राम बिगाड़ा बोले रे।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..


पाँव भरियो पीनो ,
पचे मल मूत में पड़ियो।
थोड़ो पीदो ने गणो रे चडीयो ,
कादा कीचड़ में पड़ियो रे।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..


घर में तो खाबा ने कोनी ,
रेवे मिनका री उधार।
टाबरिया तो भूखा मरे ,
पछे भीख माँगन ने जाय।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..


संत महात्मा केवे ,
दारू में दोष बतावे ।
खबर पड़ी तो मती पीवो ,
थारो जनम सफल हो जाय।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।


दारुढिया ने अलगो बालो रे,
भुंडी आवे वास।
भुंडी आवे वास ,
ने तन रो कीनो नास।
दारुढिया ने अलगो बालो रे ,
भुंडी आवे वास।


जरूर पढ़ें :- आ गाडूली तो अमरापुर में जाय

जरूर पढ़ें :- काया कोटडी में रंग लाग्यो

desi lok bhajan marwadi lyrics in hindi

!! Darudiya Ne Algo Balo !!

daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.
bhundee aave vaas ,
ne tan ro keeno naas.
daarudhiya ne alago baalo re ,
bhundee aave vaas.


sagaan sambandhee aave ,
ve baitha – baitha bhaale.
baitha – baitha bhaale ,
ve sutha – sutha bhaale.
daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.
daarudhiya …..


kaam kaaj to kare na koee ,
sido theka pe jaave.
vego uthe ne kheta mein jaave ,
raam bigaada bole re.
daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.
daarudhiya …..


paanv bhariyo peeno ,
pache mal moot mein padiyo.
thodo peedo ne gano re chadeeyo ,
kaada keechad mein padiyo re.
daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.
daarudhiya …..


ghar mein to khaaba ne konee ,
reve minaka ree udhaar.
taabariya to bhookha mare ,
pachhe bheekh maangan ne jaay.
daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.
daarudhiya …..


sant mahaatma keve ,
daaroo mein dosh bataave .
khabar padee to matee peevo ,
thaaro janam saphal ho jaay.
daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.


daarudhiya ne alago baalo re,
bhundee aave vaas.
bhundee aave vaas ,
ne tan ro keeno naas.
daarudhiya ne alago baalo re ,
bhundee aave vaas.


जरूर पढ़ें :- डेडरिया छोड़ छिलरिये री आसा

जरूर पढ़ें :- रूस गयो नंदलाल मारो

राजस्थानी लोक भजन लिरिक्स

!! दारुडिया ने अलगो बालो रे !!

दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।
भुंडी आवे वास ,ने तन रो कीनो नास।
दारुढिया ने अलगो बालो रे ,भुंडी आवे वास।

सगाँ संबंधी आवे ,वे बैठा – बैठा भाले।
बैठा – बैठा भाले ,वे सुथा – सुथा भाले।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..

काम काज तो करे न कोई ,सिदो ठेका पे जावे।
वेगो उठे ने खेता में जावे ,राम बिगाड़ा बोले रे।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..

पाँव भरियो पीनो ,पचे मल मूत में पड़ियो।
थोड़ो पीदो ने गणो रे चडीयो ,कादा कीचड़ में पड़ियो रे।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..

घर में तो खाबा ने कोनी ,रेवे मिनका री उधार।
टाबरिया तो भूखा मरे ,पछे भीख माँगन ने जाय।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।
दारुढिया …..

संत महात्मा केवे ,दारू में दोष बतावे ।
खबर पड़ी तो मती पीवो ,थारो जनम सफल हो जाय।
दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।

दारुढिया ने अलगो बालो रे,भुंडी आवे वास।
भुंडी आवे वास ,ने तन रो कीनो नास।
दारुढिया ने अलगो बालो रे ,भुंडी आवे वास।

प्रकाश माली के भजन | prakash mali bhajan video 

 

भजन :- दारुढिया ने अलगो बालो
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- काया सुनी सुनी लागे मारा

जरूर पढ़ें :- देश ये दीवानो ऐसो देखियो

पिछला लेखआ गाडूली तो अमरापुर में जाय भजन लिरिक्स | aa gaduli to amrapur jaay bhajan lyrics
अगला लेखउड़ता पंखेरू विवाह मान्डियो भजन लिरिक्स | udta pankhru vivah mandiyo bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

ten − 6 =