काया कोटडी में रंग लाग्यो भजन लिरिक्स | Kaya Kothadi Main Rang Lago bhajan lyrics

624

काया कोटडी में रंग लाग्यो भजन लिरिक्स

काया कोटडी में रंग लाग्यो भजन Kaya Kothadi Main Rang Lago हंसला भजन लिरिक्स kaya bhajan hindi lyrics

 ।। दोहा ।।
मिनख जमारो दुर्लभ है, मिले न दूजी वार।
फल पड़े धरणी पर, वो पाछो लगे न डार।


।। काया कोठड़ी में रंग लागो ।।

मारा हंसला रे चालो शिखरगढ़,
काया कोठड़ी में रंग लागो।
मारा पवना रे चालो शिखरगढ़,
काया कोठड़ी में रंग लागो।
रंग लागो रे ज्यारो भय भागो।


राम नाम रा पिया रे प्याला,
पीवत-पीवत रंग लागो।
सुरत सुंदरी आगी ठिकाणे ,
जद काया में शिव जागो।
मारा हंसला ….


इंगला रे आगे पिंगला रे उभी,
सुकमण जोय मन जाग्यो।
त्रिवेणी रा रंग महल में,
अड़ब झरोखे मारो भ्रम भागो।
मारा हंसला ….


ऊँची मेढ़ी जी रे अमी रे ढळत है,
ढळत-ढळत मारो पिव जागो।
सुरत नुरत मारो आई रे सरोदे,
जद मालिक घर वाते लागे।
मारा हंसला ….


सोहन शिखर माँय सेज पिया री,
वणती रे हमें मारो मन लागो।
मच्छेन्द्र प्रताप जति गोरख बोले,
भजन करे ज्यां रो भय भागो।
मारा हंसला ….


जरूर पढ़ें :- सूती होती सात सेज में म्हारी हेली

जरूर पढ़ें :- देश ये दीवानो ऐसो देखियो

kaya bhajan hindi lyrics in hindi

!! Kaya Kothadi Main Rang Lago !!

maara hansala re chaalo shikharagadh,
kaaya kothadee mein rang laago.
maara pavana re chaalo shikharagadh,
kaaya kothadee mein rang laago.
rang laago re jyaaro bhay bhaago.


raam naam ra piya re pyaala,
peevat-peevat rang laago.
surat sundaree aagee thikaane ,
jad kaaya mein shiv jaago.
maara hansala ….


ingala re aage pingala re ubhee,
sukaman joy man jaagyo.
trivenee ra rang mahal mein,
adab jharokhe maaro bhram bhaago.
maara hansala ….


oonchi medhi ji re ami re dhalat hai,
dhalat-dhalat maaro piv jaago.
surat nurat maaro aaee re sarode,
jad maalik ghar vaate laage.
maara hansala ….


sohan shikhar maany sej piya ree,
vanatee re hamen maaro man laago.
machchhendr prataap jati gorakh bole,
bhajan kare jyaan ro bhay bhaago.
maara hansala ….


जरूर पढ़ें :- हेली मारी होजा भजन वाली लार

जरूर पढ़ें :- हेली मारी रंग में रंग मिल जाए

हंसला भजन लिरिक्स in hindi

!! काया कोटडी में रंग लाग्यो !!

मारा हंसला रे चालो शिखरगढ़,काया कोठड़ी में रंग लागो।
मारा पवना रे चालो शिखरगढ़,काया कोठड़ी में रंग लागो।
रंग लागो रे ज्यारो भय भागो।

राम नाम रा पिया रे प्याला,पीवत-पीवत रंग लागो।
सुरत सुंदरी आगी ठिकाणे ,जद काया में शिव जागो।
मारा हंसला ….

इंगला रे आगे पिंगला रे उभी,सुकमण जोय मन जाग्यो।
त्रिवेणी रा रंग महल में, अड़ब झरोखे मारो भ्रम भागो।
मारा हंसला ….

ऊँची मेढ़ी जी रे अमी रे ढळत है,ढळत-ढळत मारो पिव जागो।
सुरत नुरत मारो आई रे सरोदे, जद मालिक घर वाते लागे।
मारा हंसला ….

सोहन शिखर माँय सेज पिया री,वणती रे हमें मारो मन लागो।
मच्छेन्द्र प्रताप जति गोरख बोले, भजन करे ज्यां रो भय भागो।
मारा हंसला ….

mangilal banjara bhajan video

भजन :- काया कोठड़ी में रंग लागो
गायक :- मांगी लाल बंजारा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- हेली मारी बाहर भटके कई

जरूर पढ़ें :- आयोड़ा संता का लीजिए वारणा

पिछला लेखडेडरिया छोड़ छिलरिये री आसा भजन लिरिक्स | Dedariya Chhod Chilariye Ri Aasa bhajan lyrics
अगला लेखआ गाडूली तो अमरापुर में जाय भजन लिरिक्स | aa gaduli to amrapur jaay bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

17 + six =