सतगुरु मेरा ऐसा रंग चढ़ाया भजन लिरिक्स | satguru mera aisa rang chadhaya bhajan lyrics

5031

सतगुरु मेरा ऐसा रंग चढ़ाया भजन लिरिक्स

सतगुरु मेरा ऐसा रंग चढ़ाया satguru mera aisa rang chadhaya सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी

 ।। दोहा ।।
गुरु पारस को अन्तरो, जानत हैं सब सन्त।
वह लोहा कंचन करे, ये करि लये महन्त॥


।। गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया ।।

सतगुरु मेरा ऐसा रंग चढ़ाया,
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया।
जो न उतरे तीन काल में,
दिन दिन होत सवाया।


छीपी छाप सके नहीं वैसा,
ना रंगरेज रंगाया।
कहन सुनन में आवत नाही ,
सतगुरु सैन बताया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया।
सतगुरु मेरा ….


श्याम श्वेत पीला नहीं नीला ,
अदभुत वर्ण बनाया।
नेत्र नहीं पहचान सकत है,
गुरु गम भेद लखाया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया।
सतगुरु मेरा ….


ह्रदय वस्त्र पर रंग भक्ति का,
लागत परम सुहाया।
ज्ञान विज्ञान लहरिया कीन्हा,
ओढ़ परम सुख पाया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया।
सतगुरु मेरा ….


चम्पानाथजी प्रेम के रंग में,
रंग कत्था पहिनाया।
सहज शून्य में लगी समाधी,
बठे अमृतनाथजी सुहाया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया।
सतगुरु मेरा ….


जरूर पढ़ें :- रटो पार्वती के भरतार

जरूर पढ़ें :- मुझे दिल की बीमारी है

guru ji bhajan lyrics in hindi

!! satguru mera aisa rang chadhaya !!

sataguru mera aisa rang chadhaaya,
guraasa aisa rang chadhaaya.
jo na utare teen kaal mein,
din din hot savaaya.


chheepee chhaap sake nahin vaisa,
na rangarej rangaaya.
kahan sunan mein aavat naahee ,
sataguru sain bataaya.
guraasa aisa rang chadhaaya.
sataguru mera ….


shyaam shvet peela nahin neela ,
adabhut varn banaaya.
netr nahin pahachaan sakat hai,
guru gam bhed lakhaaya.
guraasa aisa rang chadhaaya.
sataguru mera ….


hraday vastr par rang bhakti ka,
laagat param suhaaya.
gyaan vigyaan lahariya keenha,
odh param sukh paaya.
guraasa aisa rang chadhaaya.
sataguru mera ….


champaanaathajee prem ke rang mein,
rang kattha pahinaaya.
sahaj shoony mein lagee samaadhee,
bathe amrtanaathajee suhaaya.
guraasa aisa rang chadhaaya.
sataguru mera ….


जरूर पढ़ें :- थारे घट में विराजे भगवान

जरूर पढ़ें :- सभा है भरी भगवन

सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी

!! गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया !!

सतगुरु मेरा ऐसा रंग चढ़ाया, गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया।
जो न उतरे तीन काल में, दिन दिन होत सवाया।

छीपी छाप सके नहीं वैसा, ना रंगरेज रंगाया।
कहन सुनन में आवत नाही ,सतगुरु सैन बताया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया। सतगुरु मेरा ….

श्याम श्वेत पीला नहीं नीला , अदभुत वर्ण बनाया।
नेत्र नहीं पहचान सकत है, गुरु गम भेद लखाया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया। सतगुरु मेरा ….

ह्रदय वस्त्र पर रंग भक्ति का, लागत परम सुहाया।
ज्ञान विज्ञान लहरिया कीन्हा, ओढ़ परम सुख पाया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया। सतगुरु मेरा ….

चम्पानाथजी प्रेम के रंग में, रंग कत्था पहिनाया।
सहज शून्य में लगी समाधी, बठे अमृतनाथजी सुहाया।
गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया। सतगुरु मेरा ….

gurudev bhajan lyrics video

भजन :- गुरासा ऐसा रंग चढ़ाया
गायक :- विकास नाथ जी महाराज
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- चल हंसा उस देश

जरूर पढ़ें :- हरी ने रूणीचो बसायो

पिछला लेखरटो पार्वती के भरतार भजन लिरिक्स | rato parvati ke bhartar bhajan lyrics
अगला लेखजुबान जैसी मीठी जगत में जुबान जैसी खारी क्या भजन लिरिक्स | juban jaisi meethi jagat mein bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

five + 6 =