सभा है भरी भगवन भजन लिरिक्स | sabha hai bhari bhagwan bhajan lyrics

366

सभा है भरी भगवन भजन लिरिक्स

सभा है भरी भगवन sabha hai bhari bhagwan lyrics krishna bhajan with lyrics rajastahani desi bhajan

 ।। दोहा ।।
ब्रज की रज चंदन बनी, माटी बनी अबीर।
कृष्ण प्रेम रंग घोल के, लिपटे सब ब्रज वीर।


।। सभा है भरी भगवन ।।

सभा है भरी भगवन,
भीड़ पड़ी।
आवो तो आवो हरी ,
किसविध देर करी।


पति मोये हारी ये ना बिचारी,
कैसे सभा में आयेगी नारी |
बाजी लगी थी भगवन कपट भरी,
आवो तो आवो हरि,
किसविध देर करी।
सभा है ….


दुष्ट दु:शासन वंश विनाशन,
खेंच रह्यो मेरे बदन को वासन |
नग्न करण की चित में करी ,
आवौ तो आवौ हरि ,
किसविध देर करी।
सभा है ….


भीष्म पितामह, द्रोण गुरू देवा,
बैठे विदुरजी धर्म के खेमाँ |
सब की मति में , धुळ पड़ी,
आवौ तो आवौ हरि ,
किसविध देर करी।
सभा है ….


आ भी जाओ मत तड़पाओ ,
कृष्ण हमारी लाज बचाओ।
देवकरण की आदत बुरी ,
आवौ तो आवौ हरि ,
किसविध देर करी।
सभा है ….


जरूर पढ़ें :- चल हंसा उस देश

जरूर पढ़ें :- हरी ने रूणीचो बसायो

krishna bhajan with lyrics in hindi

!! sabha hai bhari bhagwan !!

sabha hai bharee bhagavan,
bheed padee.
aavo to aavo haree ,
kisavidh der karee.


pati moye haaree ye na bichaaree,
kaise sabha mein aayegee naaree |
baaji lagi thi bhagavan kapat bhari,
aavo to aavo hari,
kisavidh der karee.
sabha hai ….


dusht du:shaasan vansh vinaashan,
khench rahyo mere badan ko vaasan |
nagn karan kee chit mein karee ,
aavau to aavau hari ,
kisavidh der karee.
sabha hai ….


bheeshm pitaamah, dron guroo deva,
baithe vidurajee dharm ke khemaan |
sab kee mati mein , dhul padee,
aavau to aavau hari ,
kisavidh der karee.
sabha hai ….


aa bhee jao mat tadapao ,
krshn hamaaree laaj bachao.
devakaran kee aadat buree ,
aavau to aavau hari ,
kisavidh der karee.
sabha hai ….


जरूर पढ़ें :- मैया तेरा भगत करे अरदास 

जरूर पढ़ें :- चौरासी की नींद में सतगुरु जगा दिया

कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स in hindi

!! सभा है भरी भगवन !!

सभा है भरी भगवन, भीड़ पड़ी।
आवो तो आवो हरी ,किसविध देर करी।

पति मोये हारी ये ना बिचारी,
कैसे सभा में आयेगी नारी |
बाजी लगी थी भगवन कपट भरी,
आवो तो आवो हरि, किसविध देर करी।
सभा है ….

दुष्ट दु:शासन वंश विनाशन,
खेंच रह्यो मेरे बदन को वासन |
नग्न करण की चित में करी ,
आवौ तो आवौ हरि , किसविध देर करी।
सभा है ….

भीष्म पितामह, द्रोण गुरू देवा,
बैठे विदुरजी धर्म के खेमाँ |
सब की मति में , धुळ पड़ी,
आवौ तो आवौ हरि ,किसविध देर करी।
सभा है ….

आ भी जाओ मत तड़पाओ ,
कृष्ण हमारी लाज बचाओ।
देवकरण की आदत बुरी ,
आवौ तो आवौ हरि ,किसविध देर करी।
सभा है ….

rajastahani desi bhajan video

भजन :- सभा है भरी भगवन
गायक :- धरणीधर और रूपाली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- दो वरदान मुझे भक्ति का

जरूर पढ़ें :- ओम शिव ओम शिव रटता जा

पिछला लेखचल हंसा उस देश समद जहां मोती रे भजन लिरिक्स | chal hansa us desh bhajan lyrics
अगला लेखथारे घट में विराजे भगवान भजन लिरिक्स | thare ghat me biraje bhagwan bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

five × 5 =