हंस लो मित्र कोनी थारो भजन लिरिक्स | hanslo mitra koni tharo bhajan lyrics

2268

हंस लो मित्र कोनी थारो भजन लिरिक्स

हंस लो मित्र कोनी थारो hanslo mitra koni tharo bhajan lyrics हंसला भजन लिरिक्स

 ।। दोहा ।।
लम्बा चौड़ा जल प्रबल , यहाँ समंद अपार।
मोती ओ हिज मानसर , हंसा पूरणहार।


।। हंसलो मित्र कोनी थारो ।।

हंसलो मित्र कोनी थारो ,
ए भोली काया।
तू जाणे काया में ठग राख्यो ,
यो हंसलो आप ठगोरो ।


अमर लोक से आयो म्हारो हंसलो ,
यो आयो अखंड कंवारो।
इ हंसले न ब्याह रचायो ,
यो ही है पिव तिहारो ।
ए भोली काया।
हंसलो मित्र ….


काढ रे ल्याई कढाय कर ल्याई ,
फिर फिर ल्याई रे उधारो।
इ हंसले न कदे न भूखो राख्यो ,
सूंप दियो घर सारों ।
ए भोली काया।
हंसलो मित्र ….


जळ गया तेल बुझ गयी बतिया ,
मन्दरिया में भयो अंधियारो।
ले दिवलो में घर घर डोली ,
मिल्यो कोनी तेल उधारो।
ए भोली काया।
हंसलो मित्र ….


दो दिन या चार दिन को पावणों ,
यो लाद चल्यो बिणजारो।
तू कहे हंसा संग चलूँगा ,
छोड़ चल्यो मझधारो।
ए भोली काया।
हंसलो मित्र ….


उड़ गया हंस या टूट गयी टाटी ,
माटी में मिल गयो गारो।
कहत कबीर सुणो भाई साधू ,
निकल गयो बोलण हारो।
ए भोळी काया।
हंसलो मित्र ….


जरूर पढ़ें :- चादर झीनी राम झीनी

जरूर पढ़ें :- जिस माला में राम नहीं

hansla bhajan lyrics in English

!! hanslo mitra koni tharo !!

hansalo mitra koni tharo,
a bholi kaya.
tu jaane kaya me thag rakhyo,
yo hansalo aap thagaro .


amar lok se aayo maro hansalo,
yo aayo akhand kavaro.
e hansale ne byah rachayo,
yo hi hai piv tiharo,
a bholi kaya.
hansalo mitra……


kath re lyai kathay kar lyai,
fir fir lyai re udharo.
e hansale ne kade ne bhukho rakhyo,
sup diyo ghar saro .
a bholi kaya.
hansalo mitra……


jal gaya tel buj gayi batiya,
mandriya me bhayo andhiyaro.
le divlo me ghar ghar doli,
milyo koni tel udharo.
a bholi kaya.
hansalo mitra……


do din ya char din ko pavno,
yo lad chalyo binjaro.
tu kahe hansa sang chalunga,
chod chalyo majhdharo.
a bholi kaya.
hansalo mitra……


ud gaya hansa tut gayo tati,
mati me mil gayo garo.
hahat kabir suno bhai sadho,
nikal gayo bolan haro.
a bholi kaya.
hansalo mitra……


जरूर पढ़ें :- मतवाला गुरु मतवाला

जरूर पढ़ें :- कायर सके ना झेल फकीरी

हंसला भजन लिरिक्स in hindi

!! हंस लो मित्र कोनी थारो !!

हंसलो मित्र कोनी थारो ,ए भोली काया।
तू जाणे काया में ठग राख्यो ,यो हंसलो आप ठगोरो ।

अमर लोक से आयो म्हारो हंसलो ,यो आयो अखंड कंवारो।
इ हंसले न ब्याह रचायो ,यो ही है पिव तिहारो ।
ए भोली काया। हंसलो मित्र ….

काढ रे ल्याई कढाय कर ल्याई ,फिर फिर ल्याई रे उधारो।
इ हंसले न कदे न भूखो राख्यो ,सूंप दियो घर सारों ।
ए भोली काया। हंसलो मित्र ….

जळ गया तेल बुझ गयी बतिया ,मन्दरिया में भयो अंधियारो।
ले दिवलो में घर घर डोली ,मिल्यो कोनी तेल उधारो।
ए भोली काया। हंसलो मित्र ….

दो दिन या चार दिन को पावणों ,यो लाद चल्यो बिणजारो।
तू कहे हंसा संग चलूँगा ,छोड़ चल्यो मझधारो।
ए भोली काया। हंसलो मित्र ….

उड़ गया हंस या टूट गयी टाटी ,माटी में मिल गयो गारो।
कहत कबीर सुणो भाई साधू ,निकल गयो बोलण हारो।
ए भोळी काया। हंसलो मित्र ….

vikash nath ji ke bhajan video

भजन :- हंसलो मित्र कोनी थारो
गायक :- विकास नाथ जी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- श्री गणेश काटो कलेश

जरूर पढ़ें :- मत कर मान गुमान

पिछला लेखचादर झीनी राम झीनी भजन लिरिक्स | chadar jhini ram jhini bhajan lyrics
अगला लेखहंस हंस मिठो जग में बोलणो भजन लिरिक्स | hans hans mitho jag mein bolno bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

seven + eight =