कबीरा कबसे भयो बैरागी भजन लिरिक्स | kabira kab se bhaiya bairagi bhajan lyrics

633

कबीरा कबसे भयो बैरागी भजन लिरिक्स

कबीरा कबसे भयो बैरागी kabira kab se bhaiya bairagi मालवा भजन कबीर दास जी

 ।। दोहा ।।  
जो बुझे सो बावरा ,क्या उमर हमारी।
असंख युग प्रलय गई , तब के ब्रह्मचारी।


।। कबीर सा कबके भये वैरागी ।।

कबके भये वैरागी ,
कबीर सा कबके भये वैरागी।
नाथजी हम जबसे भये वैरागी ,
मेरी आदि अंत सुधलागि।


धुंधकार आदिको मेला ,
नहीं गुरु नहीं चेला।
जबका तो हम योग उपासा ,
तबका फिरो अकेला।
कबीर सा….


धरती नहीं जदकी टोपी दीना ,
ब्रह्मा नहीं जदका टीका।
शिवशंकर सो योगी नहीं ,
जदका झोली सिक्का।
कबीर सा….


द्वापर की हम करी फावड़ी ,
त्रेता को हम दण्डा।
सतयुग मेरी फिरी दुहाई ,
कलयुग फिरो नौखण्डा।
कबीर सा….


गुरु के वचन साधु की संगत ,
अजर अमर घर पाया।
कहे कबीर सुनो गोरख जी ,
जब हम तत्व लखाया।
कबीर सा….


जरूर पढ़ें :- जगत में जीवन है दिन चार

जरूर पढ़ें :- चल हंसा सतलोक हमारे

kabira kab se bhaiya bairagi bhajan English lyrics

!! malwa bhajan kabir !!

kabake bhaye vairagi ,
kabir sa kabake bhaye vairagi.
nathaji ham jabase bhaye vairagi ,
meree aadi ant sudhalaagi.


dhundhakaar aadiko mela ,
nahin guru nahin chela.
jabaka to ham yog upaasa ,
tabaka phiro akela.
kabeer sa….


dharati nahin jadaki topi dina ,
brahma nahin jadaka teeka.
shivashankar so yogee nahin ,
jadaka jholee sikka.
kabeer sa….


dvapar ki ham kari phavadi ,
treta ko ham danda.
satayug meree phiree duhaee ,
kalayug phiro naukhanda.
kabeer sa….


guru ke vachan sadhu ki sangat ,
ajar amar ghar paaya.
kahe kabeer suno gorakh jee ,
jab ham tatv lakhaaya.
kabeer sa….


जरूर पढ़ें :- जोड़ जोड़ भर लिए खजाने

जरूर पढ़ें :- मैं अपने राम को रिझाऊं

कबीरा कबसे भयो बैरागी bhajan hindi lyrics

!! मालवा भजन कबीर दास जी !!

कबके भये वैरागी ,कबीर सा कबके भये वैरागी।
नाथजी हम जबसे भये वैरागी ,मेरी आदि अंत सुधलागि।

धुंधकार आदिको मेला ,नहीं गुरु नहीं चेला।
जबका तो हम योग उपासा ,तबका फिरो अकेला।
कबीर सा….

धरती नहीं जदकी टोपी दीना ,ब्रह्मा नहीं जदका टीका।
शिवशंकर सो योगी नहीं ,जदका झोली सिक्का।
कबीर सा….

द्वापर की हम करी फावड़ी ,त्रेता को हम दण्डा।
सतयुग मेरी फिरी दुहाई ,कलयुग फिरो नौखण्डा।
कबीर सा….

गुरु के वचन साधु की संगत ,अजर अमर घर पाया।
कहे कबीर सुनो गोरख जी ,जब हम तत्व लखाया।
कबीर सा….

kabir bhajan lyrics in hindi video

भजन :- कबीर सा कबके भये वैरागी
गायक :- अर्जुन मुनिया
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- टवका करतो जाए मोरियो

जरूर पढ़ें :- सकल हंस में राम विराजे

पिछला लेखजगत में जीवन है दिन चार भजन लिरिक्स | jagat me jeevan hai din char bhajan Lyrics
अगला लेखअवधू भजन भेद है न्यारा भजन लिरिक्स | Avadhu Bhajan Bhed Hai Nyara bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

eighteen − 17 =