चाल सखी सत्संग में चला भजन लिरिक्स | chal sakhi satsang me chala bhajan lyrics

20988

चाल सखी सत्संग में चला भजन लिरिक्स | chal sakhi satsang me chala bhajan lyrics

चाल सखी सत्संग में चला chal sakhi satsang me chala satguru ji ke bhajan रामकुमार मालुनी के भजन

 ।। दोहा ।।
कौन जगत में हस रहा ,कौन जगत में रोय।
पाप जगत में हस रहा ,और धर्म रजगत में रोय।


।। चाल सखी सत्संग में चाला ।।

चाल सखी सत्संग में चाला ,
सत्संग मे सतगूरू आसी।
हरी चरणों की होजा दीवानी ,
नई तो जुगड़ा मे बह जासी।


ब्रह्मा जी आसी वीष्णु भी आसी ,
शंकर आसी केलासी।
छोटो सो गणपति आसी ,
माँ गोरा ने संग लासी।
चाल सखी ….


राम भी आसी लक्मण आसी ,
मधुवन का वनवासी।
हनुमान सा पायक आसी ,
माँ सीता संग में लासी।
चाल सखी ….


घड़ी घड़ी मे भरजे बराबर ,
पलक पलक मे जग जासी।
एक घड़ी सत्संगत करले ,
कट जासी लक चौरासी।
चाल सखी ….


गणेश आसी न रिधी सिधी लासी ,
माँ गोरा ने संग लासी।
दशरथ जी के दो कवर लाडले ,
वे तो वन के वनवासी।
चाल सखी ….


हरी की सेवा गुरु चरण में ,
बनत बनत बीरा बन जासी।
मीठा राम सत संगत शरणे ,
कर भजन नर तीर जासी।
चाल सखी ….


जरूर पढ़ें :- फकीरी जीवत धुके रे मसाण

जरूर पढ़ें :- हेली मारी रंग में रंग मिल जाए

satguru ji ke bhajan lyrics in English

!! chal sakhi satsang me chala !!

chaal sakhi satsang mein chaala ,
satsang me satagooroo aasee.
hari charanon ki hoja deevaanee ,
naee to jugada me bah jaasee.


brahma ji aasi vishnu bhi aasee ,
shankar aasee kelaasee.
chhoto so ganapati aasee ,
maan gora ne sang laasee.
chaal sakhee ….


raam bhee aasee lakman aasee ,
madhuvan ka vanavaasee.
hanumaan sa paayak aasee ,
maan seeta sang mein laasee.
chaal sakhee ….


ghadi ghadi me bharaje barabar ,
palak palak me jag jaasee.
ek ghadee satsangat karale ,
kat jaasee lak chauraasee.
chaal sakhee ….


ganesh aasi na ridhi sidhee laasee ,
maan gora ne sang laasee.
dasharath jee ke do kavar laadale ,
ve to van ke vanavaasee.
chaal sakhee ….


haree kee seva guru charan mein ,
banat banat beera ban jaasee.
meetha raam sat sangat sharane ,
kar bhajan nar teer jaasee.
chaal sakhee ….


जरूर पढ़ें :- शिवजी रम रया पहाड़ा मे

जरूर पढ़ें :- कालो भेरू कला में खेले

सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी

!! चाल सखी सत्संग में चला !!

चाल सखी सत्संग में चाला ,सत्संग मे सतगूरू आसी।
हरी चरणों की होजा दीवानी ,नई तो जुगड़ा मे बह जासी।

ब्रह्मा जी आसी वीष्णु भी आसी ,शंकर आसी केलासी।
छोटो सो गणपति आसी ,माँ गोरा ने संग लासी।
चाल सखी ….

राम भी आसी लक्मण आसी ,मधुवन का वनवासी।
हनुमान सा पायक आसी ,माँ सीता संग में लासी।
चाल सखी ….

घड़ी घड़ी मे भरजे बराबर ,पलक पलक मे जग जासी।
एक घड़ी सत्संगत करले ,कट जासी लक चौरासी।
चाल सखी ….

गणेश आसी न रिधी सिधी लासी ,माँ गोरा ने संग लासी।
दशरथ जी के दो कवर लाडले ,वे तो वन के वनवासी।
चाल सखी ….

हरी की सेवा गुरु चरण में ,बनत बनत बीरा बन जासी।
मीठा राम सत संगत शरणे ,कर भजन नर तीर जासी।
चाल सखी ….

रामकुमार मालुनी के भजन video

भजन :- चाल सखी सत्संग में चाला
गायक :- रामकुमार मालुणी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मोर मुकुट मुरली वाले ने

जरूर पढ़ें :- जाग मुसाफिर देख जरा

पिछला लेखफकीरी जीवत धुके रे मसाण भजन लिरिक्स | fakiri jivat dhuke re masan bhajan lyrics
अगला लेखकहाँ से आया कहाँ जाओगे भजन लिरिक्स | kaha se aaya kahan jaoge lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

twenty + eighteen =