तारण तरण अभय पद दाता भजन लिरिक्स | taran taran abhay pat data bhajan lyrics

745

तारण तरण अभय पद दाता भजन लिरिक्स | taran taran abhay pat data bhajan lyrics

तारण तरण अभय पद दाता taran taran abhay pat data गुरु महिमा भजन सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी satguru ji ke bhajan

 ।। दोहा ।।
सो सो चन्दा उगवे ,सूरज तपे हजार।
इतरा चानण होत भी ,गुरु बिन घोर अंधार।


।। तारण तरण अभय पत दाता ।।

तारण तरण अभय पत दाता ,
आप स्वामी हम दासा।
गुरूसा माने आपरी आसा जी ,


बाजीगर ने खेल रचाया ,
नेना किया तमाशा।
जल की बुन्द का पीन्ड बणाया ,
भीतर भरदीया स्वासा जी ,
तारण तीरण …..


देहे मे रोम रोम मे चमड़ी ,
चमड़ी धरया मासा।
हाड मे मास मास बुज है ,
बुज बुंद परकासा जी ,
तारण तीरण …..


दही मे पवन पवन मे प्राण हे ,
प्राणो मे पुरस नीवासा।
बोले आप ओर नही दुजा ,
प्रेम पुरस प्रकासा जी ,
तारण तीरण …..


घट घट मे बस आप ही बोले ,
ओर नही कोई दुजा।
कहे मछीन्दर सुण जती गोरख ,
मन धरया वीसवासा जी ,
तारण तीरण …..


जरूर पढ़ें :- मे क्या जानु राम तेरा गोरख धंधा

जरूर पढ़ें :- मन मेल को धोया नहीं

guruji bhajan lyrics in English

!! taran taran abhay pat data !!

taaran teeran abhe pat daata ,
aap svaamee ham daasa.
guroosa maane aaparee aasa jee ,


baajeegar ne khel rachaaya ,
nena kiya tamaasha.
jal kee bund ka peend banaaya ,
bheetar bharadeeya svaasa jee ,
taaran teeran …..


dehe me rom rom me chamadee ,
chamadee dharaya maasa.
haad me maas maas buj hai ,
buj bund parakaasa jee ,
taaran teeran …..


dahe me pavan pavan me pran he ,
praano me puras neevaasa.
bole aap or nahee duja ,
prem puras prakaasa jee ,
taaran teeran …..


ghat ghat me bas aap hee bole ,
or nahee koee duja.
kahe machhindar sun jati gorakh ,
man dharaya veesavaasa jee ,
taaran teeran …..


जरूर पढ़ें :- बण बादल भगता पर बरसो

जरूर पढ़ें :-इनमे कोन राम कहाया

सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी

!! तारण तरण अभय पद दाता !!

तारण तरण अभय पत दाता ,आप स्वामी हम दासा।
गुरूसा माने आपरी आसा जी ,

बाजीगर ने खेल रचाया ,नेना किया तमाशा।
जल की बुन्द का पीन्ड बणाया ,भीतर भरदीया स्वासा जी।
तारण तीरण …..

देहे मे रोम रोम मे चमड़ी ,चमड़ी धरया मासा।
हाड मे मास मास बुज है ,बुज बुंद परकासा जी।
तारण तीरण …..

दही मे पवन पवन मे प्राण हे ,प्राणो मे पुरस नीवासा।
बोले आप ओर नही दुजा ,प्रेम पुरस प्रकासा जी।
तारण तीरण …..

घट घट मे बस आप ही बोले ,ओर नही कोई दुजा।
कहे मछीन्दर सुण जती गोरख ,मन धरया वीसवासा जी।
तारण तीरण …..

satguru ji ke bhajan | गुरु महिमा भजन video

भजन :- तारण तरण अभय पत दाता
गायक :- जमना शंकर जी
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- साधु भाई कर्मो से दुनिया मरती

जरूर पढ़ें :- सुन घर सेर सेर घर बस्ती

पिछला लेखमे क्या जानू राम तेरा गोरख धंदा भजन | main kya jaanu ram tera gorakh dhanda bhajan lyrics
अगला लेखधिन घड़ी धिन भाग सतगुरु आविया रे भजन | din gadi din bhag satguru aavya re lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

1 × five =