जीवन की रुलाती घड़ियों में भजन लिरिक्स | jeevan ki rulati galiyon mein hindi bhajan with lyrics

271

जीवन की रुलाती घड़ियों में भजन लिरिक्स

जीवन की रुलाती घड़ियों में, jeevan ki rulati galiyon mein, hindi bhajan with lyrics, मिथिलेश शास्त्री के भजन, lyrics bhajan in hindi, lyrics of hindi bhajan

 ।। जीवन की रुलाती घड़ियों में ।।

जीवन की रुलाती घड़ियों में ,
मिलता है तुम्हारा प्यार मुझे ।
कुछ चाह न बाकी रहती है ,
प्रभु आके तेरे दरबार मुझे ।।


मेरे दिल के गगन पर आके कभी ,
जब गम की घटा छा जाती है ।
इक पल में कहीं से दया तेरी ,
तब बन के हवा आ जाती है ।
तुझे रक्षक सबका कहने में ,
फिर क्यों हो भला इन्कार मुझे ।
जीवन की रुलाती …


प्रभु दर पे तेरे आने वाला ,
झोली अपनी भर लेता है ।
तेरे दर से प्रभु मैं क्या माँगू ,
बिन माँगे तू सब कुछ देता है ।
जो तेरी इच्छा है दाता ,
हरदम है वही स्वीकार मुझे ॥
जीवन की रुलाती …


जब तक मैं प्रभु दुनिया में रहूँ ,
बस एक मेरा यह काम रहे ।
रहे प्यार तुम्हारी भक्ति में ,
चाहे जन्म मिले सौ बार मुझे ।
जीवन की रुलाती …


जरूर पढ़ें :- दुनिया बनाने वाले

जरूर पढ़ें :- तेरे पूजन को भगवान

lyrics of hindi bhajan in English

!! jeevan ki rulati galiyon mein !!

jeevan kee rulaatee ghadiyon mein ,
milata hai tumhaara pyaar mujhe .
kuchh chaah na baakee rahatee hai ,
prabhu aake tere darabaar mujhe ..


mere dil ke gagan par aake kabhee ,
jab gam kee ghata chha jaatee hai .
ik pal mein kaheen se daya teree ,
tab ban ke hava aa jaatee hai .
tujhe rakshak sabaka kahane mein ,
phir kyon ho bhala inkaar mujhe .
jeevan kee rulaatee …


prabhu dar pe tere aane vaala ,
jholee apanee bhar leta hai .
tere dar se prabhu main kya maangoo ,
bin maange too sab kuchh deta hai .
jo teree ichchha hai daata ,
haradam hai vahee sveekaar mujhe .
jeevan kee rulaatee …


jab tak main prabhu duniya mein rahoon ,
bas ek mera yah kaam rahe .
rahe pyaar tumhaaree bhakti mein ,
chaahe janm mile sau baar mujhe .
jeevan kee rulaatee …


जरूर पढ़ें :- शाम ढले जमुना किनारे

जरूर पढ़ें :- वृंदावन का कृष्ण कन्हैया

lyrics bhajan in hindi

!! जीवन की रुलाती घड़ियों में !!

जीवन की रुलाती घड़ियों में , मिलता है तुम्हारा प्यार मुझे ।
कुछ चाह न बाकी रहती है , प्रभु आके तेरे दरबार मुझे ।।

मेरे दिल के गगन पर आके कभी , जब गम की घटा छा जाती है ।
इक पल में कहीं से दया तेरी , तब बन के हवा आ जाती है ।
तुझे रक्षक सबका कहने में , फिर क्यों हो भला इन्कार मुझे ।
जीवन की रुलाती …

प्रभु दर पे तेरे आने वाला , झोली अपनी भर लेता है ।
तेरे दर से प्रभु मैं क्या माँगू , बिन माँगे तू सब कुछ देता है ।
जो तेरी इच्छा है दाता , हरदम है वही स्वीकार मुझे ॥
जीवन की रुलाती …

जब तक मैं प्रभु दुनिया में रहूँ , बस एक मेरा यह काम रहे ।
रहे प्यार तुम्हारी भक्ति में , चाहे जन्म मिले सौ बार मुझे ।
जीवन की रुलाती …

मिथिलेश शास्त्री के भजन video

भजन :- जीवन की रुलाती घड़ियों में
गायक :- मिथिलेश शास्त्री
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- श्याम तेरी बंसी पुकारे

जरूर पढ़ें :- पवन सुत अंजनी के लाला

पिछला लेखदुनिया बनाने वाले कैसी तेरी माया है भजन लिरिक्स | duniya banane wale kaisi teri maya hai bhajan lyrics
अगला लेखजिंदगी में भूल करना पाप कर भजन लिरिक्स | zindagi me bhool kar na paap kar bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

10 + 13 =