वृंदावन का कृष्ण कन्हैया भजन लिरिक्स | vrindavan ka krishna kanhaiya sabki aankhon ka tara bhajan lyrics

430

वृंदावन का कृष्ण कन्हैया भजन लिरिक्स

वृंदावन का कृष्ण कन्हैया, vrindavan ka krishna kanhaiya sabki aankhon ka tara, krishna bhajan with lyrics, कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स, हिंदी भजन संग्रह लिरिक्स

 ।। वृन्दावन का कृष्ण कन्हैया ।।

वृन्दावन का कृष्ण कन्हैया ,
सबकी आँखों का तारा।
मन ही मन क्यों जले राधिका ,
मोहन तो है सब का प्यारा।


जमुना तट पर नन्द का लाला ,
जब – जब रास रचाये रे।
तन – मन डोले कान्हा ,
ऐसी बंशी मधुर बजाये रे।
सुध – बुध खोए खड़ी गोपियाँ ,
जाने कैसा जादू डारा।
वृन्दावन का कृष्ण ….


रंग सलोना ऐसा जैसे ,
छाई बदरिया सावन की।
ऐरी मैं तो हुई दीवानी ,
सावन के मनभावन की।
तेरे कारण देख बावरे ,
छोड़ दिया मैंने जग सारा ।
वृन्दावन का कृष्ण ….


वृन्दावन का कृष्ण कन्हैया ,
सबकी आँखों का तारा।
मन – ही – मन क्यों जले राधिका ,
मोहन तो है सब का प्यारा।


जरूर पढ़ें :- श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम

जरूर पढ़ें :- मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो

krishna bhajan with lyrics in English

!! vrindavan ka krishna kanhaiya !!

vrndaavan ka krshn kanhaiya ,
sabakee aankhon ka taara.
man hi man kyu jale radhika ,
mohan to hai sab ka pyaara.


jamuna tat par nand ka laala ,
jab – jab raas rachaaye re.
tan – man dole kaanha ,
aisi banshi madhur bajaye re.
sudh budh khi khadi gopiya ,
jaane kaisa jaadoo daara.
vrndaavan ka krshn ….


rang salona aisa jaise ,
chhaee badariya saavan kee.
airee main to huee deevaanee ,
saavan ke manabhaavan kee.
tere kaaran dekh baavare ,
chhod diya mainne jag saara .
vrndaavan ka krshn ….


vrndaavan ka krshn kanhaiya ,
sabakee aankhon ka taara.
man hi man kyu jale radhika ,
mohan to hai sab ka pyaara.


जरूर पढ़ें :- फूलों में सज रहे है

जरूर पढ़ें :- मेरे बाँके बिहारी लाल 

कृष्ण भजन हिंदी lyrics

!! वृंदावन का कृष्ण कन्हैया !!

वृन्दावन का कृष्ण कन्हैया ,सबकी आँखों का तारा।
मन ही मन क्यों जले राधिका,मोहन तो है सब का प्यारा।

जमुना तट पर नन्द का लाला ,जब – जब रास रचाये रे।
तन – मन डोले कान्हा ,ऐसी बंशी मधुर बजाये रे।
सुध – बुध खोए खड़ी गोपियाँ ,जाने कैसा जादू डारा।
वृन्दावन का कृष्ण ….

रंग सलोना ऐसा जैसे ,छाई बदरिया सावन की।
ऐरी मैं तो हुई दीवानी ,सावन के मनभावन की।
तेरे कारण देख बावरे ,छोड़ दिया मैंने जग सारा ।
वृन्दावन का कृष्ण ….

वृन्दावन का कृष्ण कन्हैया ,सबकी आँखों का तारा।
मन  ही मन क्यों जले राधिका ,मोहन तो है सब का प्यारा।

हिंदी भजन संग्रह लिरिक्स video

भजन :- वृंदावन का कृष्ण कन्हैया
गायिका :- लता मंगेशकर
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- कानूड़ो नचावे थोड़ी नाच ले

जरूर पढ़ें :- श्याम तुझसे मिलने का

पिछला लेखश्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम भजन लिरिक्स | shyam teri bansi pukare radha naam bhajan lyrics
अगला लेखशाम ढले जमुना किनारे भजन लिरिक्स | sham dhale jamuna kinare bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

one × 1 =