बिगड़ी कौन सुधारे नाथ बिना भजन लिरिक्स | bigdi kon sudhare bhajan lyrics

1011

बिगड़ी कौन सुधारे नाथ बिना भजन लिरिक्स

बिगड़ी कौन सुधारे नाथ बिना || bigdi kon sudhare  marwadi desi bhajan मारवाड़ी देसी भजन

 ॥ दोहा ।॥
दौड़ सके तो दौड़ ले, जब तक तेरी दौड़।
दौड़ थकी धोखा मिट्या ,वस्तु ठोड की ठोड।


 ~ बिगड़ी कौन सुधारे रे ~

बिगड़ी कौन सुधारे रे ,
बिगड़ी कौन बनावे रे ।
बिगड़ी कौन बनावे नाथ बिन ,
बिगड़ी कौन बनावे रे ।।


बिगड़ी सुधरी दोनों कहिये रे ,
परा परी तूं आई रे ।
एक दफे रावण की बिगड़ी ,
लंक विभीषण पाई रे ॥
बिगड़ी कौन। …


बनी बनी के सब कोई साथी ,
बिगड़ी का कोई नाँहि रे ।
भरी सभा में लज्या राखी ,
दीनानाथ गुंसाई रे ।।
बिगड़ी कौन। …


कड़वी बेल की कड़वी तुंबड़ियाँ रे ,
सब तीरथ कर आई रे ।
घाट घाट को जळ भर लाई ,
अजहुं न गई कड़वाई रे ॥
बिगड़ी कौन। …


कुआ में कबूतर बोले ,
वन में बोले मोरा रे ।
नदी किनारे सारस बोले ,
मैं जानूं पिव मोरा रे ।
बिगड़ी कौन। …


नेम धर्म री जहाज बणाई ,
समन्द बीच तिराई रे ।
धरमी धरमी पार उतरिया ,
पापी नाव डुबाई रे ॥
बिगड़ी कौन। …


पाँच तत्व की बणी चुनड़िया ,
चुनड़ी के दाग लगायो रे ।
नाथ जालन्धर गुरु हमारे ,
राजा मान यश गायो रे ॥
बिगड़ी कौन। …


जरूर पढ़ें :- जाग रे नर जाग दीवाना

जरूर पढ़ें :- मंदिर देख डरे सुदामा

marwadi desi bhajan lyrics in English

!! bigdi kon sudhare !!

bigdi kon sudhare re,
bigdi kon banave re.
bigdi kon banave nath bin,
bigdi kon banave re.


bigdi sudhri dono kahiye re,
para pari tu aai re .
ek dafe ravan ki bigdi,
lank vibhisan paai re.
bigdi kon …..


bani bani ke sab koi sathi,
bigdi ka koi nahi re.
bhari sabha me lajya rakhi,
dinanath gusai re.
bigdi kon …..


kadvi bel ki kadvi tumbadiya re,
sab tirath kar aai re.
ghat ghat ko jal bhar lai,
ajahu ne gai kadvai re.
bigdi kon …..


kua me kabutar bole,
van me bole mora re.
nadi kinare saras bole,
me janu piv mora re.
bigdi kon …..


nem dharm ri jahaj banai,
samand bick tirai re.
dharmi dharmi par utriya,
papi nav dubai re.
bigdi kon …..


panch tatv ki bani chundiya,
chundi ke dag lagayo re.
nath jalandhar guru hamare,
raja man yash gayo re.
bigdi kon …..


जरूर पढ़ें :- केसर रो तिलक लगाया

जरूर पढ़ें :- जाग जाग मेरी गंगा मैया

मारवाड़ी देसी भजन Lyrics in Hindi

!! बिगड़ी कौन सुधारे नाथ बिना !!

बिगड़ी कौन सुधारे रे , बिगड़ी कौन बनावे रे ।
बिगड़ी कौन बनावे नाथ बिन , बिगड़ी कौन बनावे रे ।।

बिगड़ी सुधरी दोनों कहिये रे , परा परी तूं आई रे ।
एक दफे रावण की बिगड़ी , लंक विभीषण पाई रे ॥
बिगड़ी कौन। …

बनी बनी के सब कोई साथी , बिगड़ी का कोई नाँहि रे ।
भरी सभा में लज्या राखी , दीनानाथ गुंसाई रे ।।
बिगड़ी कौन। …

कड़वी बेल की कड़वी तुंबड़ियाँ रे , सब तीरथ कर आई रे ।
घाट घाट को जळ भर लाई , अजहुं न गई कड़वाई रे ॥
बिगड़ी कौन। …

कुआ में कबूतर बोले , वन में बोले मोरा रे ।
नदी किनारे सारस बोले , मैं जानूं पिव मोरा रे ।
बिगड़ी कौन। …

नेम धर्म री जहाज बणाई , समन्द बीच तिराई रे ।
धरमी धरमी पार उतरिया , पापी नाव डुबाई रे ॥
बिगड़ी कौन। …

पाँच तत्व की बणी चुनड़िया , चुनड़ी के दाग लगायो रे ।
नाथ जालन्धर गुरु हमारे , राजा मान यश गायो रे ॥
बिगड़ी कौन। …

ओम वैष्णव के भजन video

भजन :- बिगड़ी कौन सुधारे रे 
गायक :- ओम वैष्णव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- किना क्यू नही बृज रा मोर

जरूर पढ़ें :- किंण विद राखेला राम

पिछला लेखजाग रे नर जाग दीवाना भजन लिरिक्स | jag re nar jag deewana lyrics
अगला लेखसंत लिखमीदास जी की आरती लिरिक्स | sant likhmidas ji ki aarti lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

7 + three =