उभी मैं सरवर तीर भजन लिरिक्स | ubi me sarvar teer bhajan lyrics

1117

उभी मैं सरवर तीर भजन लिरिक्स

उभी मैं सरवर तीर ubi me sarvar teer, राजस्थानी देसी भजन,मारवाड़ी देसी भजन,desi bhajan lyrics in hindi

 ॥ दोहा ॥
प्रीतम प्रीत लगाय के , तुम दूर देशमत जाय ।
बसो हमारी नगरी में , पिया हम मांगे तुमखाय ॥


~ उभी मैं सरवर तीर ~

ब्रहणी बैठी पीहर में ,
पियो बसे परदेश ।
खान पान सब त्यागिया रे ,
त्यागिया वस्त्र वेश पियाजी ,
उभी मैं सरवर तीर ।
नैणां सूं ढलक्यो नीर पियाजी ,
उभी मैं सरवर तीर ॥


धूणी धूखे ज्यूं काळजो रे ,
जळ जळ गयो रे शरीर ।
मछली ज्यूं तड़फत फिरूं रे ,
कद होसी समदर सीर पियाजी ,
उभी मैं सरवर तीर ॥
नैणां सूं ढलक्यो । ….


सूता नी आवे नींदड़ी रे ,
जागू तो नहींरे सुहाय ।
विरह काले नाग ज्यू रे ,
काढ काळजो खाय सजन म्हारा ,
उभी मैं सरवर तीर ॥
नैणां सूं ढलक्यो । ….


बेदरदी पिया दया नहीं आई रे ,
विरह गयो रे लगाय ।
कयो चरणों रे माँय राखसु जी ,
अध बिच दीवी छिटकाय पियाजी ,
उभी मैं सरवर तीर ॥
नैणां सूं ढलक्यो । ….


रूपस्वरूप आपरो है ,
ज्यां ने झुर रही ब्रहणी अनेक ।
सिमरत दासी ‘ आपरी रे ,
अरे दया हमारी देख सजन म्हारा ,
उभी मैं सरवर तीर ।
नैणां सूं ढलक्यो । ….


जरूर पढ़ें :- सूती होती सात सेज में

जरूर पढ़ें :- संगत करो निर्मल सादरी

desi bhajan lyrics in English

!! ubi me sarvar teer !!

brahanee baithee peehar mein ,
piyo base paradesh .
khaan paan sab tyaagiya re ,
tyaagiya vastr vesh piyaajee ,
ubhee main saravar teer .
nainaan soon dhalakyo neer piyaji ,
ubhee main saravar teer .


dhoonee dhookhe jyoon kaalajo re ,
jal jal gayo re shareer .
machhalee jyoon tadaphat phiro re ,
kad hosee samadar seer piyaajee ,
ubhee main saravar teer .


soota nee aave neendadee re ,
jaagoo to naheenre suhaay .
virah kaale naag jyoo re ,
kaadh kaalajo khaay sajan mhaara ,
ubhee main saravar teer .


bedaradee piya daya nahin aaee re ,
virah gayo re lagaay .
kayo charanon re maany rakhasu ji ,
adh bich deevee chhitakaay piyaji ,
ubhee main saravar teer .


roopasvaroop aaparo hai ,
jyaan ne jhur rahee brahanee anek .
simarat daasee aaparee re ,
are daya हमारी dekh sajan mara ,
ubhee main saravar teer .


जरूर पढ़ें :- अब कैसे होवे जग में जीवन

जरूर पढ़ें :- हेली मारी बाहर भटके कई

राजस्थानी देसी भजन lyrics in Hindi

!! अभी मैं सरवर तीर !!

ब्रहणी बैठी पीहर में , पियो बसे परदेश ।
खान पान सब त्यागिया रे ,
त्यागिया वस्त्र वेश पियाजी , उभी मैं सरवर तीर ।
नैणां सूं ढलक्यो नीर पियाजी , उभी मैं सरवर तीर ॥

धूणी धूखे ज्यूं काळजो रे , जळ जळ गयो रे शरीर ।
मछली ज्यूं तड़फत फिरूं रे ,
कद होसी समदर सीर पियाजी , उभी मैं सरवर तीर ॥

सूता नी आवे नींदड़ी रे , जागू तो नहींरे सुहाय ।
विरह काले नाग ज्यू रे ,
काढ काळजो खाय सजन म्हारा , उभी मैं सरवर तीर ॥

बेदरदी पिया दया नहीं आई रे , विरह गयो रे लगाय ।
कयो चरणों रे माँय राखसु जी ,
अध बिच दीवी छिटकाय पियाजी ,उभी मैं सरवर तीर ॥

रूपस्वरूप आपरो है , ज्यां ने झुर रही ब्रहणी अनेक ।
‘ सिमरत दासी ‘ आपरी रे ,
अरे दया हमारी देख सजन म्हारा , उभी मैं सरवर तीर ।

श्याम दास वैष्णव के भजन video

भजन :- उभी मैं सरवर तीर
गायक :- श्याम दास वैष्णव
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मेरे घर के आगे साईनाथ

जरूर पढ़ें :- कमर कसी तलवार धारवी

पिछला लेखफकीरी अलबेला रो खेल भजन लिरिक्स | fakiri albela ro khel lyrics
अगला लेखपियाजी री वाणी मत बोल भजन लिरिक्स | piyaji ri vani mat bol bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

10 − 9 =