सत्संग अमर जड़ी भजन लिरिक्स | satsang amar jadi re bhajan lyircs

1397

सत्संग अमर जड़ी भजन लिरिक्स

सत्संग अमर जड़ी satsang amar jadi re, prakash mali bhajan rajasthani,chetawani bhajan lyrics

 दोहा ।।
सतगुरु मारा बाणिया , बिणज करे व्यापार।
बिन दांडी बिन ताकड़ी , गुरु तोल दिया संसार।


~ सतसंगत अमर झड़ी है ~

सतसंगत अमर झड़ी है ,
सतसंगत अमर झड़ी है ।
ज्याने लाभ मिळियो सतसंग में ,
उनको खबर पड़ी है ।
सतसंगत अमर झड़ी है ।


प्रहलादे संगत सिरिया देरी कीनी ,
रामजी री खबर पड़ी है ।
हिरणाकुश ने थम्भ तपायो ,
थम्भ से बाथ भरी है ।
सतसंगत अमर। ….


नरसी रे संगत पीपा जीरी कीनी ,
सुई पर बात अड़ी है ।
छप्पन करोड रो भरियो मायरो ,
आया ए आपहरी है ।
सतसंगत अमर। ….


रामजी संगत सुग्रीव री कीनी ,
वानरों री फौज बणी है ।
वानरों री काँहि सिमरथा ,
जाय रावण से लड़ी है ।
सतसंगत अमर। ….


लोहे संगत काठरी कीनी ,
भाई जलपर जहाज तिरी है ।
रामानन्द रा भणे कबीरा ,
बिल्कुल बात खरी है ।
सतसंगत अमर। ….


जरूर पढ़ें :- अगर है शौक मिलने का

जरूर पढ़ें :- रामजी मिल जावे

chetawani bhajan lyrics in English

!! satsang amar jadi re !!

satasangat amar jhadee hai ,
satasangat amar jhadee hai .
jyaane laabh miliyo satasang mein ,
unako khabar padee hai .
satasangat amar jhadee hai .


prahalaade sangat siriya deree keenee ,
raamajee ree khabar padee hai .
hiranaakush ne thambh tapaayo ,
thambh se baath bharee hai .
satasangat amar. ….


narasee re sangat peepa jeeree keenee ,
suee par baat adee hai .
chhappan karod ro bhariyo maayaro ,
aaya e aapaharee hai .
satasangat amar. ….


raamajee sangat sugreev ree keenee ,
vaanaron ree phauj banee hai .
vaanaron ree kaanhi simaratha ,
jaay raavan se ladee hai .
satasangat amar. ….


lohe sangat kaatharee keenee ,
bhaee jalapar jahaaj tiree hai .
raamaanand ra bhane kabeera ,
bilkul baat kharee hai .
satasangat amar. ….


जरूर पढ़ें :- जीव तू मत करना फिकरी

जरूर पढ़ें :- काया नगर के बीच में

chetawani bhajan lyrics in Hindi

!! सत्संग अमर जड़ी है !!

सतसंगत अमर झड़ी है , सतसंगत अमर झड़ी है ।
ज्याने लाभ मिळियो सतसंग में ,
उनको खबर पड़ी है । सतसंगत अमर झड़ी है ।

प्रहलादे संगत सिरिया देरी कीनी , रामजी री खबर पड़ी है ।
हिरणाकुश ने थम्भ तपायो , थम्भ से बाथ भरी है ।
सतसंगत अमर। ….

नरसी रे संगत पीपा जीरी कीनी , सुई पर बात अड़ी है ।
छप्पन करोड रो भरियो मायरो , आया ए आपहरी है ।
सतसंगत अमर। ….

रामजी संगत सुग्रीव री कीनी , वानरों री फौज बणी है ।
वानरों री काँहि सिमरथा , जाय रावण से लड़ी है ।
सतसंगत अमर। ….

लोहे संगत काठरी कीनी , भाई जलपर जहाज तिरी है ।
रामानन्द रा भणे कबीरा , बिल्कुल बात खरी है ।
सतसंगत अमर। ….

prakash mali bhajan rajasthani Video

भजन :- सतसंगत अमर झड़ी है
गायक :- प्रकाश माली
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मत कर भोली आत्मा

जरूर पढ़ें :-  बटाऊ आयो लेवण ने

पिछला लेखअगर है शौक मिलने का भजन लिरिक्स | agar hai shauk milne ka lyrics
अगला लेखभाव राखजो भगती भजन लिरिक्स | bhav rakhjo bhakti bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

five × 1 =