मैली चादर ओढ के कैसे भजन लिरिक्स | maili chadar odh ke kaise bhajan lyrics

535

मैली चादर ओढ के कैसे भजन लिरिक्स

मैली चादर ओढ के कैसे maili chadar odh ke kaise, hindi bhajan with lyrics, anup jatola bhajan

 ~ मैली चादर ओढ के कैसे ~

मैली चादर ओढ के कैसे ,
द्वार तिहारे आऊँ ।
हे पावन परमेश्वर मेरे ,
मन ही मन शरमाऊँ ।।


तूने मुझको जग में भेजा ,
देकर सुन्दर काया ।
आकर के संसार में मैंने ,
इसको दाग लगाया ।
जनम जनम की मैली चादर ,
कैसे दाग मिटाऊँ ।
मैली चादर । ….


निर्मल वाणी पाकर तुझसे ,
नाम न तेरा गाया ।
नैन मूंदकर हे परमेश्वर !
कभी ना ध्यान लगाया ।
मन वीणा की तारें टूटी ,
अब क्या राग सुनाऊँ ॥
मैली चादर । ….


इन पैरों से चलकर तेरे ,
मन्दिर कभी न आया ।
जहाँ – जहाँ हो पूजा तेरी ,
कभी न शीश झुकाया ।
हे हरि हर ! मैं हार के आया ,
अब क्या हार चढाऊँ ।
मैली चादर । ….


जरूर पढ़ें :-  हरि ने हिये में नही धारे

जरूर पढ़ें :-  नाम रो दीवानो भजन

hindi bhajan with lyrics In English

!! maili chadar odh ke kaise !!

mailee chaadar odh ke kaise ,
dvaar tihaare aaoon .
he paavan parameshvar mere ,
man hee man sharamaoon ..


toone mujhako jag mein bheja ,
dekar sundar kaaya .
aakar ke sansaar mein mainne ,
isako daag lagaaya .
janam janam kee mailee chaadar ,
kaise daag mitaoon .
mailee chaadar . ….


nirmal vaanee paakar tujhase ,
naam na tera gaaya .
nain moondakar he parameshvar !
kabhee na dhyaan lagaaya .
man veena kee taaren tootee ,
ab kya raag sunaoon .
mailee chaadar . ….


in pairon se chalakar tere ,
mandir kabhee na aaya .
jahaan – jahaan ho pooja teree ,
kabhee na sheesh jhukaaya .
he hari har ! main haar ke aaya ,
ab kya haar chadhaoon .
mailee chaadar . ….


जरूर पढ़ें :-  मनवा नहीं विचारी रे

जरूर पढ़ें :- यो जग झुठो है संसार

hindi bhajan with lyrics In hindi

!! मैली चादर ओढ के कैसे !!

मैली चादर ओढ के कैसे , द्वार तिहारे आऊँ ।
हे पावन परमेश्वर मेरे , मन ही मन शरमाऊँ ।।

तूने मुझको जग में भेजा , देकर सुन्दर काया ।
आकर के संसार में मैंने , इसको दाग लगाया ।
जनम जनम की मैली चादर , कैसे दाग मिटाऊँ ।
मैली चादर । ….

निर्मल वाणी पाकर तुझसे , नाम न तेरा गाया ।
नैन मूंदकर हे परमेश्वर ! कभी ना ध्यान लगाया ।
मन वीणा की तारें टूटी , अब क्या राग सुनाऊँ ॥
मैली चादर । ….

इन पैरों से चलकर तेरे , मन्दिर कभी न आया ।
जहाँ – जहाँ हो पूजा तेरी , कभी न शीश झुकाया ।
हे हरि हर ! मैं हार के आया , अब क्या हार चढाऊँ ।
मैली चादर । ….

anup jatola bhajan Video

भजन :-  मैली चादर ओढ के कैसे
गायक :- अनूप जलोटा 
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी

जरूर पढ़ें :- कारीगर मत ना भटके रे

पिछला लेखहरि ने हिये में नही धारे चेतावनी भजन | hari ne hiye ne dhara re bhajan lyrics
अगला लेखजोबनियो जातो रियो भजन लिरिक्स | jobniyo jato riyo bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

nine + 1 =