भरत भाई ! कपि से उ ऋण भजन लिरिक्स | bharat bhai kapi se urin hum nahi bhajan lyrics

858

भरत भाई ! कपि से उ ऋण भजन लिरिक्स

भरत भाई ! कपि से उ ऋण bharat bhai kapi se urin hum nahi, anup jalota bhajan lyrics, hanuman ji bhajan lyrics

 ~ भरत भाई ! कपि से उ ऋण ~

भरत भाई !
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥


सौ योजन मर्यादा सिन्धु की ,
कूदि गयो क्षण माँहीं ।
लंका जारि सिया सुधि लायो ,
पर गर्व नहीं मन माँहीं ।
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥
भरत भाई । ……


शक्ति बाण लग्यो लक्ष्मण के ,
शोर भयो दल माँहीं ।
धोला गिर कर धर लायो ,
भौर ना होने पाई ॥
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥
भरत भाई । ……


अहि रावण की भुजा उखाड़ी ,
बैठि गयो मठ माँहीं ।
जो भैया हनुमंत नहीं होतो ,
तो करतो कौन सहाई ॥
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥
भरत भाई । ……


आज्ञा भंग कबहूं नहीं कीन्हीं ,
जहाँ पठायो तहाँ जाई ।
तुलसीदास पवनसुत महिमा ,
प्रभु निज मुख करत बड़ाई ॥
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥
भरत भाई । ……


जरूर पढ़ें :- वानर वांको रे

जरूर पढ़ें :- राम से बड़ा राम का नाम

hanuman ji bhajan lyrics In English

!! bharat bhai kapi se urin hum nahi !!

bharat bhaee !
kapi se u rn ham naaheen .

sau yojan maryaada sindhu kee ,
koodi gayo kshan maanheen .
lanka jaari siya sudhi laayo ,
par garv nahin man maanheen .
kapi se u rn ham naaheen .
bharat bhaee . ……


shakti baan lagyo lakshman ke ,
shor bhayo dal maanheen .
dhola gir kar dhar laayo ,
bhaur na hone paee .
kapi se u rn ham naaheen .
bharat bhaee . ……


ahi raavan kee bhuja ukhaadee ,
baithi gayo math maanheen .
jo bhaiya hanumant nahin hoto ,
to karato kaun sahaee .
kapi se u rn ham naaheen .
bharat bhaee . ……


aagya bhang kabahoon nahin keenheen ,
jahaan pathaayo tahaan jaee .
tulaseedaas pavanasut mahima ,
prabhu nij mukh karat badaee .
kapi se u rn ham naaheen .
bharat bhaee . ……


जरूर पढ़ें :- लेलो जी लेलो रामजी रो नाम

जरूर पढ़ें :- फूलों में सज रहे है

hanuman ji bhajan lyrics In Hindi

!! भरत भाई ! कपिसे उ ऋण !!

भरत भाई ! कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥

सौ योजन मर्यादा सिन्धु की , कूदि गयो क्षण माँहीं ।
लंका जारि सिया सुधि लायो , पर गर्व नहीं मन माँहीं ।
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥ भरत भाई । ……

शक्ति बाण लग्यो लक्ष्मण के , शोर भयो दल माँहीं ।
धोला गिर कर धर लायो , भौर ना होने पाई ॥
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥ भरत भाई । ……

अहि रावण की भुजा उखाड़ी , बैठि गयो मठ माँहीं ।
जो भैया हनुमंत नहीं होतो , तो करतो कौन सहाई ॥
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥ भरत भाई । ……

आज्ञा भंग कबहूं नहीं कीन्हीं , जहाँ पठायो तहाँ जाई ।
तुलसीदास पवनसुत महिमा , प्रभु निज मुख करत बड़ाई ॥
कपि से उ ऋण हम नाहीं ॥ भरत भाई । ……

anup jalota bhajan lyrics Video

भजन :- भरत भाई ! कपिसे उ ऋण
गायक :- अनूप जलोटा
लेबल :- राजस्थानी भजन

जरूर पढ़ें :- मेरे बाँके बिहारी लाल

जरूर पढ़ें :- कानूड़ो नचावे थोड़ी नाच ले

पिछला लेखवानर वांको रे भजन लिरिक्स | vanar bako re hanuman ji bhajan lyrics
अगला लेखबीड़ो उठायो हनुमान हठीलो भजन लिरिक्स | bido uthayo hanuman hathile bhajan lyrics

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

4 × 3 =